Saturday, January 16, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

अब चांद पर भी उगेंगे पौधे, चीन के विश्वविद्यालय की अनोखी पहल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब चांद पर भी उगेंगे पौधे, चीन के विश्वविद्यालय की अनोखी पहल

नई दिल्ली। धरती पर अपने खेतों में बेहतर फसल उगाने के लिए किसान जीतोड़ मेहनत करता है इसके बावजूद अपनी मेहनत के मुताबिक फल नहीं पाता है।  चीन की तरफ से अब धरती पर आलू उगाने के बजाय चांद पर इसे उगाने की तैयारी की जा रही है। खबर है कि चीन इसी वर्ष 2018 में चंद्रमा पर अपने पहले जैविक अनुसंधान के तहत चांग ई 4 लूनर यान के जरिए वहां आलू, एक फूल के पौधे के बीज और रेशम कीट के अंडाणुओं को भेजने की योजना बना रहा है। 

गौरतलब है कि चीन के द्वारा इस अनुसंधान को किए जाने का मकसद चांद के वातावरण में नई संभावनाओं को तलाशना है, आलू और अरबीडोफिसिस के बीजों और रेशम के कीटों के अंडाणुओं के साथ इसकी शुरुआत की जा रही है। बता दें कि चीन के चांगकिंग विश्वविद्यालय के नेतृत्व में करीब 28 ‘चीनी’ विश्वविद्यालयों ने मिलकर यह योजना तैयार की है। इस योजना का नाम ‘लूनार मिनी बॉयोस्फेयर’ रखा गया है और मिशन में नीदरलैंड्स, स्वीडन, जर्मनी और सऊदी अरब के साइंटिफिक पेलोड्स को भी भेजा जाएगा।

ये भी पढ़ें - अलीगढ़ में मातम हुआ ‘खुशियों में तब्दील’, मौत के कुछ ही घंटे बाद जीवित हुआ रामकिशोर


बताया जा रहा है कि चीन अपनी इस योजना के तहत एक बेलनाकार टिन में फूल, आलू और अन्य चीजें भेजने की तैयारी कर रहा है। यह टिन का बॉक्स करीब 18 सेंटीमीटर लंबा और इसकी गोलाई 16 सेंटीमीटर है। यह टीन एक विशेष प्रकार के एल्यूमिनियम एलॉय से बना है। 

इस बेलनाकार डिब्बे में पानी, पौधों के लिए जरूरी पोषक पदार्थ, हवा, एक छोटा सा कैमरा और डेटा ट्रांसमिशन सिस्टम भी होगा। योजना बनाने वालों को पूरी उम्मीद है कि चांद पर बीज जरूर विकसित होंगे। डिब्बे में लगे कैमरे के जरिए  इस प्रक्रिया को कैमरे में कैद कर धरती पर भेजा जाएगा। यहां बता दें कि अंतरिक्ष में पौधों को उगाने का प्रयास पहले भी किया जा चुका है लेकिन चांद पर पौधे उगाने का यह पहला प्रयास है।  

Todays Beets: