Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

अब चांद पर भी उगेंगे पौधे, चीन के विश्वविद्यालय की अनोखी पहल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब चांद पर भी उगेंगे पौधे, चीन के विश्वविद्यालय की अनोखी पहल

नई दिल्ली। धरती पर अपने खेतों में बेहतर फसल उगाने के लिए किसान जीतोड़ मेहनत करता है इसके बावजूद अपनी मेहनत के मुताबिक फल नहीं पाता है।  चीन की तरफ से अब धरती पर आलू उगाने के बजाय चांद पर इसे उगाने की तैयारी की जा रही है। खबर है कि चीन इसी वर्ष 2018 में चंद्रमा पर अपने पहले जैविक अनुसंधान के तहत चांग ई 4 लूनर यान के जरिए वहां आलू, एक फूल के पौधे के बीज और रेशम कीट के अंडाणुओं को भेजने की योजना बना रहा है। 

गौरतलब है कि चीन के द्वारा इस अनुसंधान को किए जाने का मकसद चांद के वातावरण में नई संभावनाओं को तलाशना है, आलू और अरबीडोफिसिस के बीजों और रेशम के कीटों के अंडाणुओं के साथ इसकी शुरुआत की जा रही है। बता दें कि चीन के चांगकिंग विश्वविद्यालय के नेतृत्व में करीब 28 ‘चीनी’ विश्वविद्यालयों ने मिलकर यह योजना तैयार की है। इस योजना का नाम ‘लूनार मिनी बॉयोस्फेयर’ रखा गया है और मिशन में नीदरलैंड्स, स्वीडन, जर्मनी और सऊदी अरब के साइंटिफिक पेलोड्स को भी भेजा जाएगा।

ये भी पढ़ें - अलीगढ़ में मातम हुआ ‘खुशियों में तब्दील’, मौत के कुछ ही घंटे बाद जीवित हुआ रामकिशोर


बताया जा रहा है कि चीन अपनी इस योजना के तहत एक बेलनाकार टिन में फूल, आलू और अन्य चीजें भेजने की तैयारी कर रहा है। यह टिन का बॉक्स करीब 18 सेंटीमीटर लंबा और इसकी गोलाई 16 सेंटीमीटर है। यह टीन एक विशेष प्रकार के एल्यूमिनियम एलॉय से बना है। 

इस बेलनाकार डिब्बे में पानी, पौधों के लिए जरूरी पोषक पदार्थ, हवा, एक छोटा सा कैमरा और डेटा ट्रांसमिशन सिस्टम भी होगा। योजना बनाने वालों को पूरी उम्मीद है कि चांद पर बीज जरूर विकसित होंगे। डिब्बे में लगे कैमरे के जरिए  इस प्रक्रिया को कैमरे में कैद कर धरती पर भेजा जाएगा। यहां बता दें कि अंतरिक्ष में पौधों को उगाने का प्रयास पहले भी किया जा चुका है लेकिन चांद पर पौधे उगाने का यह पहला प्रयास है।  

Todays Beets: