Thursday, August 22, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

अब आप पानी के अंदर रहने वाले जीवों के बारे में भी जान पाएंगे, वैज्ञानिकों ने तैयार किया रोबोट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब आप पानी के अंदर रहने वाले जीवों के बारे में भी जान पाएंगे, वैज्ञानिकों ने तैयार किया रोबोट

पानी के अंदर मछलियों की दुनिया कैसी होती होगी। वे किस तरह से रहती हैं इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा लोग जानना चाहते हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों ने अपनी खोज में एक ऐसे रोबोट को बनाया है जो उनके साथ ही पानी में डुबकियां लगा सकता है। स्विटजरलैंड के इकोल पॉलिटेक्निक फेडरल के शोधकर्ता डे लौसेन ने एक खोज की है उन्होंने एक ऐसा रोबोट बनाया है जो मछलियों के साथ तैर सकता है। यहां तक की मछलियां आपस में कैसे बात करती हैं ये भी सीख सकता है। 

स्वस्थ प्रजाति की मछली

आपको बता दें कि यह रोबोट बिल्कुल मछली की तरह ही दिखता है और इस रोबोट की लंबाई 7 सेंटीमीटर है। गौर करने वाली बात है कि शोधकर्ताओं ने इसके अध्ययन के लिए जेब्रा मछली का चुनाव किया। इस मछली को चुनने के पीछे एक बड़ा कारण यह था कि यह मछलियों की सबसे स्वस्थ प्रजाति है। इनका समूह तेजी से दिशा बदलता है और उतनी ही तेजी से एक तरफ से दूसरी तरफ चला जाता है। 

ये भी पढ़ें - आस्ट्रिया की एंजेला ने किया अनोखा कारनामा, दुनिया की सबसे मुश्किल चट्टान पर चढ़ने वाली पहली महिला बनी


 

जीवों के बारे में मिलेगी जानकारी

इस खास रोबोट को बनाने के लिए वैज्ञानिकों ने पशुओं से प्रेरणा ली है। उनका मानना है कि पशुओं के साथ रोबोट की बातचीत से शोधकर्ताओं को जीव विज्ञान और रोबोटिक्स के बारे में जानने में सहायता मिलेगी।

Todays Beets: