Thursday, February 25, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

जेईई को लेकर शिक्षामंत्री ने किया बड़ा ऐलान , इस बार चार मौके मिलने को लेकर दिया यह बड़ा बयान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जेईई को लेकर शिक्षामंत्री ने किया बड़ा ऐलान , इस बार चार मौके मिलने को लेकर दिया यह बड़ा बयान

नई दिल्ली । केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने शुक्रवार को जेईई (मुख्य) परीक्षा- 2021 से जुड़ी कई घोषणाएं कीं। उन्होंने घोषणा की है कि जेईई (मुख्य) परीक्षा- 2021 फरवरी, मार्च, अप्रैल और मई 2021 महीनों में चार सत्रों में कराई जाएगी। जेईई (मुख्य) परीक्षा का पहला सत्र 23-26 फरवरी, 2021 तक होगा। उन्होंने यह घोषणा भी की कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) पर अमल करते हुए जेईई (मुख्य) परीक्षा पहली बार 13 भाषाओं- असमिया, बंगाली, कन्नड़, मलयालम, मराठी, उड़िया, पंजाबी, तमिल, तेलुगू, उर्दू, हिंदी, अंग्रेजी और गुजराती में आयोजित की जाएगी।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि एक अभ्यर्थी को सभी चार सत्रों ने शामिल होने की आवश्यकता नहीं है। हालांकि, यदि अभ्यर्थी एक से ज्यादा सत्र में शामिल होता है तो मेरिट सूची/ रैंकिंग तैयार करने के लिए उसके सर्वश्रेष्ठ एनटीए अंकों पर विचार किया जाएगा। उन्होंने यह घोषणा भी की कि प्रश्न पत्र में 90 प्रश्न शामिल होंगे, जिनमें अभ्यर्थी को कुल 75 प्रश्नों के जवाब देने होंगे।

इस फैसले से विद्यार्थियों को होने वाले फायदों को गिनाते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि जेईई (मुख्य) परीक्षा- 2021 चार सत्रों में कराए जाने से अभ्यर्थियों को परीक्षा में अपने अंकों में सुधार करने के कई अवसर मिलेंगे, यदि वे एक प्रयास में अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं दे पाते हैं।


उन्होंने कहा कि यदि एक अभ्यर्थी की किसी एक महीने में बोर्ड परीक्षा है, या वह कोविड-19 के कारण परीक्षा में शामिल नहीं हो पाता है तो अभ्यर्थी जेईई (मुख्य)- 2021 में शामिल होने के लिए दूसरा महीना चुन सकता है।

 

Todays Beets: