Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

दिव्यांग बच्चों के लिए भी पढ़ाई होगी आसान, सीबीएसई ने ब्रेल को विषय बनाने की सिफारिश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिव्यांग बच्चों के लिए भी पढ़ाई होगी आसान, सीबीएसई ने ब्रेल को विषय बनाने की सिफारिश

नई दिल्ली। दिव्यांग छात्रों की सुविधा के लिए केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने एक विशेष व्यवस्था करने जा रहा है। उनके लिए अब भारतीय साइन लैंग्वेज यानि ब्रेल को एक विषय बनाने पर विचार किया जा रहा है। कंप्यूटर आधारित टेस्ट होंगे, हाजिरी में छूट होगी और अलग-अलग विषयों के लिए अलग-अलग कठिनाई स्तर का विकल्प और विषयों के चयन में लचीलता प्रदान करना भी शामिल होगा। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि विशेष जरूरत वाले बच्चों के लिए साइन लैंग्वेज को एक विषय बनाया जाएगा।

गौरतलब है कि सीबीएसई ने दिव्यांग बच्चों के लिए बोर्ड परीक्षा में जो भाषा के पेपर की अनिवार्यता है उसमें भी उन्हें छूट देने की बात कही है। बोर्ड के अनुसार इन पेपरों की जगह उन्हें इंडियन साइन लैंग्वेज का विकल्प दिया जा सकता है। ठीक इसी तरह ब्रेल को भी एक भाषा के ही एक विकल्प के तौर पर चुना जा सकता है।

ये भी पढ़ें - उत्तरप्रदेश में शिक्षा को बेहतर बनाने की कवायद तेज, 14 हजार से ज्यादा शिक्षकों की होगी भर्ती


यहां बता दें कि बोर्ड ने एकेडमिक और परीक्षा से संबंधित कई ऐसे सुझाव दिए हैं जो कौशल आधारित हों, इसके साथ ही विज्ञान, गणित और सामाजिक विज्ञान को और भी रुचिकर बनाने के लिए तीन कठिनाई स्तर का विकल्प मुहैया कराने को कहा है। इससे छात्र अपनी शैक्षिक योग्यता के मुताबिक विकल्प का चुनाव कर पाएंगे।

 

गौर करने वाली बात है कि सीबीएसई ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर इस ड्राफ्ट पर अपनी टिप्पणी करने को कहा है। ड्राफ्ट में कहा गया है कि तकनीक के इस्तेमाल से दिव्यांग बच्चों के लिए पढ़ने-पढ़ाने का काम आसान हो जाएगा।  पॉलिसी ड्राफ्ट में ये भी कहा गया है कि सभी स्कूलों की बिल्डिंग इन बच्चों के अनुकूल होनी चाहिए। स्कूल का सही इन्फ्रास्ट्रक्चर होना चाहिए, बिल्डिंग के हर हिस्से में रैम्प या लिफ्ट होनी चाहिए और सुलभ शौचालय का निर्माण भी किया जाना चाहिए। 

Todays Beets: