Monday, February 24, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

दिव्यांग बच्चों के लिए भी पढ़ाई होगी आसान, सीबीएसई ने ब्रेल को विषय बनाने की सिफारिश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिव्यांग बच्चों के लिए भी पढ़ाई होगी आसान, सीबीएसई ने ब्रेल को विषय बनाने की सिफारिश

नई दिल्ली। दिव्यांग छात्रों की सुविधा के लिए केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने एक विशेष व्यवस्था करने जा रहा है। उनके लिए अब भारतीय साइन लैंग्वेज यानि ब्रेल को एक विषय बनाने पर विचार किया जा रहा है। कंप्यूटर आधारित टेस्ट होंगे, हाजिरी में छूट होगी और अलग-अलग विषयों के लिए अलग-अलग कठिनाई स्तर का विकल्प और विषयों के चयन में लचीलता प्रदान करना भी शामिल होगा। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि विशेष जरूरत वाले बच्चों के लिए साइन लैंग्वेज को एक विषय बनाया जाएगा।

गौरतलब है कि सीबीएसई ने दिव्यांग बच्चों के लिए बोर्ड परीक्षा में जो भाषा के पेपर की अनिवार्यता है उसमें भी उन्हें छूट देने की बात कही है। बोर्ड के अनुसार इन पेपरों की जगह उन्हें इंडियन साइन लैंग्वेज का विकल्प दिया जा सकता है। ठीक इसी तरह ब्रेल को भी एक भाषा के ही एक विकल्प के तौर पर चुना जा सकता है।

ये भी पढ़ें - उत्तरप्रदेश में शिक्षा को बेहतर बनाने की कवायद तेज, 14 हजार से ज्यादा शिक्षकों की होगी भर्ती


यहां बता दें कि बोर्ड ने एकेडमिक और परीक्षा से संबंधित कई ऐसे सुझाव दिए हैं जो कौशल आधारित हों, इसके साथ ही विज्ञान, गणित और सामाजिक विज्ञान को और भी रुचिकर बनाने के लिए तीन कठिनाई स्तर का विकल्प मुहैया कराने को कहा है। इससे छात्र अपनी शैक्षिक योग्यता के मुताबिक विकल्प का चुनाव कर पाएंगे।

 

गौर करने वाली बात है कि सीबीएसई ने सभी राज्यों को पत्र लिखकर इस ड्राफ्ट पर अपनी टिप्पणी करने को कहा है। ड्राफ्ट में कहा गया है कि तकनीक के इस्तेमाल से दिव्यांग बच्चों के लिए पढ़ने-पढ़ाने का काम आसान हो जाएगा।  पॉलिसी ड्राफ्ट में ये भी कहा गया है कि सभी स्कूलों की बिल्डिंग इन बच्चों के अनुकूल होनी चाहिए। स्कूल का सही इन्फ्रास्ट्रक्चर होना चाहिए, बिल्डिंग के हर हिस्से में रैम्प या लिफ्ट होनी चाहिए और सुलभ शौचालय का निर्माण भी किया जाना चाहिए। 

Todays Beets: