Saturday, August 8, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

सीबीएसई ने कोरोना काल में अपने 30% सिलेबस में की कटौती , राष्ट्रवाद - धर्मनिरपेक्षता जैसे अध्याय हटाए

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीएसई ने कोरोना काल में अपने 30% सिलेबस में की कटौती , राष्ट्रवाद - धर्मनिरपेक्षता जैसे अध्याय हटाए

नई दिल्ली । कोरोना काल में जहां पूरी दुनिया पिछले 3 महीने से ज्यादा समय तक थमी रही , वहीं भारत में भी इसका व्यापक असर पड़ा है । देश की अर्थव्यवस्था से लेकर देश की शिक्षा व्यवस्था तक पटरी से उतर गई है । इस सबके बीच देश में 9वीं से 11वीं कक्षा तक के छात्रों और अभ‍िभावकों को सिलेबस की चिंता सता रही है । इस संकट के काल में अब सीबीएसई ने नये शैक्षिक सत्र में सिलेबस को 30 प्रतिशत तक हटा दिया है । मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोख‍रियाल निशंक ने ट्वीट करके कहा कि लर्निंग एचीवमेंट के महत्व को ध्यान में रखते हुए और मुख्य अवधारणाओं को बरकरार रखते हुए सिलेबस को 30% तक तर्कसंगत बनाने का निर्णय लिया गया है। 

पाठ्यक्रम में कटौती के बाद अब धर्मनिरपेक्षता और राष्ट्रवाद जैसे कई अध्यायों को मौजूदा शैक्षणिक वर्ष के लिए पाठ्यक्रम से हटा दिया गया है। पाठ्यक्रम में सीबीएसई द्वारा की गई इस कटौती का असर 11वीं कक्षा में पढ़ाए जाने वाले संघीय ढांचा, राज्य सरकार, नागरिकता, राष्ट्रवाद और धर्मनिरपेक्षता जैसे अध्याय पर दिखेगा। सीबीएसई ने इन सभी अध्यायों को मौजूदा एक वर्ष के लिए सिलेबस से हटा दिया है।

बता दें कि काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एक्जामिनेशन (CISCE) बोर्ड ने 2020-21 सत्र के लिए ICSE व ISC बोर्ड परीक्षाओं के सिलेबस में 25 फीसदी की कटौती कर दी है । बोर्ड का मानना है कि ऑनलाइन क्लासेज के जरिये सीबीएसई का सिलेबस पूरा कराना मुश्क‍िल था, जिसे सरकार ने विद्वानों से सलाह लेकर कम करने का फैसला लिया है।


HRD मंत्री ने इस दौरान कहा कि इस निर्णय में सहायता लेने के लिए कुछ हफ़्ते पहले मैंने सभी शिक्षाविदों से #SyllabusForStudents2020 पर सुझाव आमंत्रित किए थे । मुझे यह साझा करने में खुशी हो रही है कि पूरे देश से हमें 1.5K से अधिक सुझाव मिले । उन्होंने ये भी बताया कि सीबीएसई द्वारा कक्षा 9 वीं से 12 वीं के छात्रों पर पाठ्यक्रम भार को कम करने के लिए पाठ्यक्रम संशोधन किया जा रहा है ।

इस दौरान सीबीएसई ने साफ किया है कि कोरोना संकट के चलते नये सत्र में सिलेबस को कुछ छोटा किया जाएगा । हिंदी में सीबीएसई में नौवीं क्लास में कबीर पद्य में कबीर, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना और गद्य में महादेवी वर्मा और हजारी प्रसाद द्विवेदी को हटा दियाय है । सोशल साइंस से ड्रेन, पॉपुलेशन और डेमोक्रेटिक राइट्स सहित कई चैप्टर हटाए गए हैं । 

बता दें कि नौवीं और दसवीं कक्षा से आठ विषयों गण‍ित, गृहविज्ञान, कंप्यूटर एप्लीकेशन आदि विषयों के सिलेबस में कुछ सब्जेक्ट हटाए गए हैं । वहीं कक्षा 9 से 11 के करीकुलम से 25 सब्जेक्ट्स में से कुछ पोर्शन डिलीट हुए हैं । बता दें कि पिछले महीने दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कोविड-19 से हुए नुकसान की भरपाई के लिए सभी क्लासेस के लिए सिलेबस कम करने की सलाह दी थी। शिक्षा विभाग के अधिकारियों से मीटिंग के दौरान उन्होंने सिलेबस 30 से 50 फीसदी सिलेबस कम करने पर भी बात की थी

Todays Beets: