Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

अब बोर्ड की परीक्षाओं में गणित का प्रश्नपत्र होगा आसान, 2020 में लागू होगी व्यवस्था  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब बोर्ड की परीक्षाओं में गणित का प्रश्नपत्र होगा आसान, 2020 में लागू होगी व्यवस्था  

नई दिल्ली। अब 10वीं की परीक्षा में गणित का प्रश्नपत्र हौव्वा नहीं लगेगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने गणित की परीक्षा के तनाव को दूर करने के लिए अब 2 तरह के पेपर तैयार करने का फैसला किया है। खबरों के अनुसार गणित के प्रश्नपत्र के दो स्तर होंगे, एक बेसिक और दूसरा स्टैंडर्ड। बेसिक वाला आसान होगा जबकि स्टैंडर्ड पेपर मौजूदा स्तर का ही होगा। नई व्यवस्था मार्च, 2020 की परीक्षा से लागू होगी। 

गौरतलब है कि सीबीएसई से बोर्ड की परीक्षा देने वाले ज्यादातर छात्रों को गणित का पेपर काफी भारी लगता है। छात्रों के लिए गणित को आसान बनाने और उनके तनाव को दूर करने के लिए राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा (एनसीएफ) 2005 में भी एक विषय के लिए दो स्तर की परीक्षा कराने की बात कही गई है। ऐसी व्यवस्था लागू होने से छात्रों को विकल्प चुनने का मौका मिलेगा। यही वजह है कि बोर्ड ने 10वीं में गणित विषय के लिए दो स्तर के पेपर शुरू करने का निर्णय लिया है।


ये भी पढ़ें - आलोक वर्मा पर अब लगे नीरव मोदी और विजय माल्या की मदद करने के आरोप, सीवीसी करेगी जांच

यहां बता दें कि सीबीएसई बोर्ड का कहना है कि अगर यह व्यवस्था लागू होती है तो छात्रों को पूरे साल सभी टाॅपिक्स को पढ़ने का मौका मिलेगा। इसके बाद वे अपनी क्षमता के आधार पर फैसला ले सकेंगे कि उन्हें कौन से स्तर की परीक्षा में शामिल होना है। हालांकि, यह नियम 9वीं कक्षा की परीक्षाओं में लागू नहीं होंगे। गौर करने वाली बात है कि बोर्ड के द्वारा यह व्यवस्था उन छात्रों को ध्यान में रखकर बनाई जा रही है जो 11वीं के बाद गणित विषय के साथ पढ़ाई करना चाहते हैं। वहीं, बेसिक लेवल उनके लिए होगा, जो गणित में उच्च शिक्षा हासिल नहीं करना चाहते हैं। छात्र परीक्षा फॉर्म भरते वक्त स्टैंडर्ड या बेसिक गणित में एक का विकल्प चुन सकते हैं।

Todays Beets: