Tuesday, January 28, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

अब बोर्ड की परीक्षाओं में गणित का प्रश्नपत्र होगा आसान, 2020 में लागू होगी व्यवस्था  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब बोर्ड की परीक्षाओं में गणित का प्रश्नपत्र होगा आसान, 2020 में लागू होगी व्यवस्था  

नई दिल्ली। अब 10वीं की परीक्षा में गणित का प्रश्नपत्र हौव्वा नहीं लगेगा। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने गणित की परीक्षा के तनाव को दूर करने के लिए अब 2 तरह के पेपर तैयार करने का फैसला किया है। खबरों के अनुसार गणित के प्रश्नपत्र के दो स्तर होंगे, एक बेसिक और दूसरा स्टैंडर्ड। बेसिक वाला आसान होगा जबकि स्टैंडर्ड पेपर मौजूदा स्तर का ही होगा। नई व्यवस्था मार्च, 2020 की परीक्षा से लागू होगी। 

गौरतलब है कि सीबीएसई से बोर्ड की परीक्षा देने वाले ज्यादातर छात्रों को गणित का पेपर काफी भारी लगता है। छात्रों के लिए गणित को आसान बनाने और उनके तनाव को दूर करने के लिए राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा (एनसीएफ) 2005 में भी एक विषय के लिए दो स्तर की परीक्षा कराने की बात कही गई है। ऐसी व्यवस्था लागू होने से छात्रों को विकल्प चुनने का मौका मिलेगा। यही वजह है कि बोर्ड ने 10वीं में गणित विषय के लिए दो स्तर के पेपर शुरू करने का निर्णय लिया है।


ये भी पढ़ें - आलोक वर्मा पर अब लगे नीरव मोदी और विजय माल्या की मदद करने के आरोप, सीवीसी करेगी जांच

यहां बता दें कि सीबीएसई बोर्ड का कहना है कि अगर यह व्यवस्था लागू होती है तो छात्रों को पूरे साल सभी टाॅपिक्स को पढ़ने का मौका मिलेगा। इसके बाद वे अपनी क्षमता के आधार पर फैसला ले सकेंगे कि उन्हें कौन से स्तर की परीक्षा में शामिल होना है। हालांकि, यह नियम 9वीं कक्षा की परीक्षाओं में लागू नहीं होंगे। गौर करने वाली बात है कि बोर्ड के द्वारा यह व्यवस्था उन छात्रों को ध्यान में रखकर बनाई जा रही है जो 11वीं के बाद गणित विषय के साथ पढ़ाई करना चाहते हैं। वहीं, बेसिक लेवल उनके लिए होगा, जो गणित में उच्च शिक्षा हासिल नहीं करना चाहते हैं। छात्र परीक्षा फॉर्म भरते वक्त स्टैंडर्ड या बेसिक गणित में एक का विकल्प चुन सकते हैं।

Todays Beets: