Thursday, November 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

देश में अब नहीं रहेंगे बेरोजगार, सरकार ने इंटर्नशिप व कैंपस प्लेसमेंट नीति को दी मंजूरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
देश में अब नहीं रहेंगे बेरोजगार, सरकार ने इंटर्नशिप व कैंपस प्लेसमेंट नीति को दी मंजूरी

नई दिल्ली। देश में नए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने और बेरोजगारी की समस्या को दूर करने के लिए केंद्र सरकार की ओर से नई पहल की गई है। केंद्र सरकार ने तकनीकी शिक्षा के छात्रों को रोजगार से जोड़ने के मकसद से पहले इंटर्नशिप व कैंपस प्लेसमेंट नीति को मंजूरी दे दी है। सत्र 2019 से तकनीकी कॉलेज, इंडस्ट्री व अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) मिलकर रोजगार तैयार करेंगे। इसके बाद इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, फार्मेसी एवं आर्किटेक्चर की डिग्री हासिल करने के बाद छात्रों को रोजगार की तलाश में भटकना नहीं पड़ेगा। 

गौरतलब कि पहले इंटर्नशिप व कैंपस प्लेसमेंट नीति छात्रों के लिए रोजगार उपलब्ध कराने में उद्योगों की भी जिम्मेदारी तय की गई है। इसके तहत गांव, छोटे शहर, महानगर, इंडस्ट्री व कंपनियों में नौकरियों की संभावनाओं पर काम करना होगा। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के अध्यक्ष अनिल सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि पहली बार तकनीकी शिक्षा को रोजगार से जोड़ने की नीति बनाई गई है। तकनीकी शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों को दूसरे सेमेस्टर से गर्मियों की छुट्टियों में 4 से 6 हफ्तों में अनिवार्य इंटर्नशिप होगी। 

ये भी पढ़ें - करतारपुर काॅरिडोर की सुरक्षा व्यवस्था संभालेंगे 1000 सैनिक, बीएसएफ बनाएगी नई बटालियन


यहां बता दें कि इंटर्नशिप की नई नीति में पहली बार कॉलेज व विश्वविद्यालय, इंडस्ट्री, छात्र और एआईसीटीई के लिए दिशानिर्देश तय किए गए हैं। इंटर्नशिप की निगरानी के साथ हर साल छात्रों की रिपोर्ट तैयार की जाएगी। नई नीति के तहत विश्वविद्यालय या कॉलेज के कुल बजट का 1 फीसदी ट्रेनिंग व प्लेसमेंट सेल और विभिन्न गतिविधियों पर खर्च होगा। 

डिग्री प्रोग्राम के छात्रों को 300 से 400 घंटे एक्टिविटी प्रोग्राम के तहत सामुदायिक सेवा करनी पड़ेगी। एनसीसी, एनएसएस, खेलकूद में भाग लेने वाले छात्रों को क्रेडिट मिलेंगे। छात्रों को तकनीकी शिक्षा की पढ़ाई के साथ-साथ मानवीय मूल्य, भारतीय संस्कृति व संस्कार में भी कुशल बनाया जाएगा ताकि वे विदेशी उद्योग की मांग के आधार पर तैयार हो सकें। 

Todays Beets: