Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

देश में अब नहीं रहेंगे बेरोजगार, सरकार ने इंटर्नशिप व कैंपस प्लेसमेंट नीति को दी मंजूरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
देश में अब नहीं रहेंगे बेरोजगार, सरकार ने इंटर्नशिप व कैंपस प्लेसमेंट नीति को दी मंजूरी

नई दिल्ली। देश में नए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने और बेरोजगारी की समस्या को दूर करने के लिए केंद्र सरकार की ओर से नई पहल की गई है। केंद्र सरकार ने तकनीकी शिक्षा के छात्रों को रोजगार से जोड़ने के मकसद से पहले इंटर्नशिप व कैंपस प्लेसमेंट नीति को मंजूरी दे दी है। सत्र 2019 से तकनीकी कॉलेज, इंडस्ट्री व अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) मिलकर रोजगार तैयार करेंगे। इसके बाद इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट, फार्मेसी एवं आर्किटेक्चर की डिग्री हासिल करने के बाद छात्रों को रोजगार की तलाश में भटकना नहीं पड़ेगा। 

गौरतलब कि पहले इंटर्नशिप व कैंपस प्लेसमेंट नीति छात्रों के लिए रोजगार उपलब्ध कराने में उद्योगों की भी जिम्मेदारी तय की गई है। इसके तहत गांव, छोटे शहर, महानगर, इंडस्ट्री व कंपनियों में नौकरियों की संभावनाओं पर काम करना होगा। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के अध्यक्ष अनिल सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि पहली बार तकनीकी शिक्षा को रोजगार से जोड़ने की नीति बनाई गई है। तकनीकी शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों को दूसरे सेमेस्टर से गर्मियों की छुट्टियों में 4 से 6 हफ्तों में अनिवार्य इंटर्नशिप होगी। 

ये भी पढ़ें - करतारपुर काॅरिडोर की सुरक्षा व्यवस्था संभालेंगे 1000 सैनिक, बीएसएफ बनाएगी नई बटालियन


यहां बता दें कि इंटर्नशिप की नई नीति में पहली बार कॉलेज व विश्वविद्यालय, इंडस्ट्री, छात्र और एआईसीटीई के लिए दिशानिर्देश तय किए गए हैं। इंटर्नशिप की निगरानी के साथ हर साल छात्रों की रिपोर्ट तैयार की जाएगी। नई नीति के तहत विश्वविद्यालय या कॉलेज के कुल बजट का 1 फीसदी ट्रेनिंग व प्लेसमेंट सेल और विभिन्न गतिविधियों पर खर्च होगा। 

डिग्री प्रोग्राम के छात्रों को 300 से 400 घंटे एक्टिविटी प्रोग्राम के तहत सामुदायिक सेवा करनी पड़ेगी। एनसीसी, एनएसएस, खेलकूद में भाग लेने वाले छात्रों को क्रेडिट मिलेंगे। छात्रों को तकनीकी शिक्षा की पढ़ाई के साथ-साथ मानवीय मूल्य, भारतीय संस्कृति व संस्कार में भी कुशल बनाया जाएगा ताकि वे विदेशी उद्योग की मांग के आधार पर तैयार हो सकें। 

Todays Beets: