Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

विदेशी विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वाले सीधे बनेंगे असिस्टेंट प्रोफेसर, यूजीसी का ऐलान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विदेशी विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वाले सीधे बनेंगे असिस्टेंट प्रोफेसर, यूजीसी का ऐलान

नई दिल्ली। विदेश से पीएचडी करने वाले नौजवानों को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने एक बड़ा तोहफा दिया है। अब ऐसे डिग्रीधारक नौजवानों को भारतीय विश्वविद्यालय में सीधे असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर भर्ती के लिए योग्य माने जाएंगे। बताया जा रहा है कि यूजीसी ने करीब 500 विदेशी विश्वविद्यालयों को इस सूची में रखा है। नए नियुक्ति मानकों में इन विश्वविद्यालयों का फैसला 4 मशहूर विश्वविद्यालयों के रैंकिंग सिस्टम के आधार पर किया जाएगा। इनमें क्वाकक्वारेली साइमंड्स, टाइम्स हायर एजुकेशन रैंकिंग और एकेडमिक रैंकिंग ऑफ वर्ल्ड यूनिवर्सिटीज ऑफ द शंघाई जियाओ टोंग यूनिवर्सिटी के रैंकिंग सिस्टम शामिल हैं।

गौरतलब है कि यूजीसी की इस कवायद से भारतीय छात्रों को घरेलू विश्वविद्यालय में ही वैश्विक प्रतिभाओं से शिक्षा हासिल करने का मौका मिलेगा। आइए आपको बता दें कि यूजीसी के ओर से विदेशी विश्वविद्यालयों के डिग्रीधारक छात्रों की नियुक्ति किस तरह से होगी।  

ये भी पढ़ें - अब बस्ते के बोझ से बच्चों को मिलेगी निजात, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तय किया वजन

नियुक्ति के नियम

- किसी भी भारतीय या मान्यता प्राप्त विदेशी विश्वविद्यालय से कम से कम 55 फीसदी अंकों के साथ मास्टर डिग्री अनिवार्य


- यूजीसी या सीएसआईआर की तरफ से आयोजित राष्ट्रीय योग्यता परीक्षा (नेट) या स्लेट, सेट आदि उत्तीर्ण करना होगा

- भारतीय विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वालों के लिए सीधी भर्ती का मौका होगा, लेकिन मास्टर डिग्री में 55 फीसदी अंक होने चाहिए

- विदेशी विश्वविद्यालय से पीएचडी करने वालों के लिए मास्टर डिग्री में न्यूनतम अंक व लिखित परीक्षा से छूट, लेकिन इंटरव्यू में आंका जाएगा प्रदर्शन 

इन विषयों में मिलेगा मौका

आर्ट्स, कामर्स, मानविकी, एजुकेशन, कानून, सामाजिक विज्ञान, विज्ञान, भाषा, लाइब्रेरी साइंस, फिजिकल एजुकेशन और पत्रकारिता व जनसंचार। 

Todays Beets: