Thursday, November 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

अब बस्ते के बोझ से बच्चों को मिलेगी निजात, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तय किया वजन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब बस्ते के बोझ से बच्चों को मिलेगी निजात, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने तय किया वजन

नई दिल्ली। अब स्कूल जाने वाले बच्चों को बस्ते का भारी बोझ नहीं उठाना पड़ेगा। सोमवार को मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से नई गाइडलाइन जारी करते हुए पहली से 10वीं कक्षा तक के बच्चों के बस्ते का वजन तय कर दिया है। इस नए दिशानिर्देश के अनुसार कक्षा 1 और 2 में पढ़ने वाले वाले बच्चों के स्कूल बैग का वजन 1.5 किलो तय किया गया है वहीं कक्षा 3 से कक्षा 5 तक के छात्र-छात्राओं के स्कूल बैग का वजन 2 से 3 किलो तय किया गया है। बता दें कि अभिभावकों की ओर से काफी समय से बच्चों के बस्ते का वजन कम करने की मांग की जा रही थी।

गौरतलब है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से 6ठी और 7वीं कक्षा के छात्र-छात्राओं के स्कूल बैग का वजन 4 किलो तय कर दिया गया है। वहीं 8वीं और 9वीं कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों के बैग का वजन साढ़े 4 किलो निर्धारित किया गया है जबकि 10वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्रों के बस्ते का वजन 5 किलो तय किया गया है। 

ये भी पढ़ें - अब इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के छात्रों को रट्टा लगाने की जरूरत नहीं, किताबें खोलकर दे सकेंगे परीक्षा


यहां बता दें कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से सभी राज्यों को सर्कुलर भेज दिया गया है। मंत्रालय की ओर से बड़ा कदम उठाते हुए कहा गया है कि कक्षा 1 और 2 में पढ़ने वाले बच्चों को होमवर्क नहीं दिया जाए। इसके साथ ही निर्देश दिए गए हैं कि उनको केवल भाषा और गणित ही पढ़ाई जाएगी और कोई भी दूसरा विषय नहीं पढ़ाया जाएगा। 

आपको बता दें कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से जारी निर्देश में कहा गया है कि कक्षा 3 से कक्षा 5 तक के छात्रों को भाषा ईवीएस और मैथ एनसीआरटी के सिलेबस से पढाया जाए। इसके साथ ये भी निर्देश दिए गए हैं कि बच्चे किसी भी तरह का भारी सामान स्कूल बैग में न लाएं।

Todays Beets: