Thursday, November 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

शिक्षक बनना चाहते हैं तो अब 12वीं में ही लेना होगा निर्णय, एनटीसीई का बड़ा निर्णय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षक बनना चाहते हैं तो अब 12वीं में ही लेना होगा निर्णय, एनटीसीई का बड़ा निर्णय

नई दिल्ली। अध्यापन में रुचि रखने वाले छात्र इस खबर को जरा ध्यान से पढ़ लें। अब शिक्षक बनने के इच्छुक नौजवानों को अब 12वीं में ही इसका निर्णय लेना पड़ेगा। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने 4 वर्षीय पाठ्यक्रम की योजना लागू करने के लिए इसके लिए काॅलेजों से 3 से 31 दिसंबर तक आवेदन मांगे हैं। अब इस कोर्स को करने वाली ही प्राइमरी से लेकर माध्यमिक स्तर तक के स्कूलों में शिक्षक बन सकेंगे। बता दें कि अब तक शिक्षक बनने के लिए जेबीटी, टीईटी और सीटीईटी जैसी परीक्षाओं को पास करना होता था। 

गौरतलब है कि राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद की इस योजना के लागू होने के बाद पूरे देश में एक ही पाठ्यक्रम शुरू हो जाएगा और 12वीं के  बाद 4 साल का कोर्स करने वाले ही शिक्षक बनने के योग्य होंगे।  4 वर्षीय राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम (एनटीईपी) के पाठ्यक्रमों को मान्यता देने के लिए एनसीटीई ने कॉलेजों से 3 से 31 दिसम्बर तक आवेदन मांगे हैं। ये मान्यता अगले वर्ष शुरू होने वाले कोर्स के लिए है। 


ये भी पढ़ें - अब 25 साल से ज्यादा उम्र के छात्र भी दे सकेंगे नीट, सुप्रीम कोर्ट ने दी इजाजत

प्राइमरी और उच्च प्राइमरी से माध्यमिक तक के लिए अलग-अलग कोर्स चलाए जाएंगे। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने विज्ञान व कला वर्ग के लिए मान्यता देने के लिए आवेदन मांगे हैं। ये 2019 से 2023 तक के सत्र के लिए है। इसके लागू होने के बाद पूरे देश में एक ही तरह का पाठ्यक्रम होगा और कहीं कोई संदेह नहीं होगा। इसमें प्रवेश के लिए 50 फीसदी अंकों के साथ बारहवीं पास होना चाहिए।

Todays Beets: