Sunday, August 16, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

अभिभावक बोले, सीबीएसई का परीक्षाएं कराने का फैसला मनमाना, सुप्रीम कोर्ट में याचिका

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अभिभावक बोले, सीबीएसई का परीक्षाएं कराने का फैसला मनमाना, सुप्रीम कोर्ट में याचिका

नई दिल्ली। कोरोना के बढ़ते मामलों से चिंतित अभिभावकों ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। इनकी तरफ से दायर याचिका में कहा गया है कि मौजूदा हालात को देखते हुए सीबीएसई को बची हुई परीक्षाएं रद्द करने का निर्देश दिया जाए।

अभिभावकों का कहना है कि देश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में दसवीं और बारहवीं की बाकी रह गई परीक्षाएं जुलाई में कराने का सीबीएसई का फैसला मनमाना है। यह बच्चों की जान खतरे में डाल सकता है। साथ ही कोर्ट से आग्रह किया गया है कि बोर्ड को आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर छात्रों को अंक देने का निर्देश दिया जाए।


गौरतलब है कि सीबीएसई ने हाल ही में दसवीं और बारहवीं बोर्ड की बची परीक्षाएं 1 जुलाई से 15 जुलाई के बीच कराने का फैसला किया था। साथ ही यह स्पष्ट कर दिया था कि कंटेनमेंट जोन में कोई परीक्षा केंद्र नहीं होगा। याचिका में कहा गया है कि एक तरफ विशेषज्ञ कह रहे हैं कि कोरोना संक्रमण जुलाई में अपने चरम होगा। दूसरी तरफ, सीबीएसई बच्चों और उनके माता-पिता की कोई परवाह न करते हुए परीक्षाएं कराने की तैयारी कर रहा है।

Todays Beets: