Monday, February 24, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

यूजीसी ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब ऑनलाइन प्रोग्राम के जरिए भी पा सकेंगे डिग्री   

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूजीसी ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब ऑनलाइन प्रोग्राम के जरिए भी पा सकेंगे डिग्री   

नई दिल्ली । यूजीसी ने विश्वविद्यालयों में जुलाई सें शुरु होने वाले सत्र में ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इसके साथ यूजीसी काउंसिल ने एससी और एसटी छात्रों को उच्च शिक्षा में 5 प्रतिशत अंको की भी छूट देने की योजना बनाई है।

यें भी पढ़ें-उत्तराखंड बोर्ड कल जारी करेगा 10वीं और 12वीं का रिजल्ट, परीक्षा परिणाम के लिए यहां कर सकेंगे क्लिक

भारत में पहली बार ऐसा हुआ है कि विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन प्रोग्राम के जरिये छात्रों को डिग्री दी जाएगी। यहां आपको बता दें कि यह फैसला यूजीसी ने शिक्षा व्यवस्था में सुधार के मद्देनजर लिया है। छात्रों को ज्यादा सुविधा देने के लिए ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम की शुरुआत की है।

यें भी पढ़ें-स्मार्टफोन Xiaomi Mi 8 की जानकारी हुई लीक, अब 31 मई को होगा लॉन्च


बता दें कि दाखिले के लिए छात्रों के 50 फीसदी अंक होने जरूरी हैं।  साथ ही छात्रों के पास आधार कार्ड और पासपोर्ट होना भी जरूरी है। यूजीसी ने सभी विश्वविद्यालयों को कहा है कि जिन शिक्षण संस्थानों का नैक एक्रीडिटेशन स्कोर 3.26 से 4 के बीच है वे संस्थान ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम के लिए आवेदन कर सकते हैं।

यें भी पढ़ें-उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों को गर्मी से मिलेगी राहत, घरेलू दरों पर होगी  बिजली बिल की वसूली 

इसके अलावा एनआईआरएफ के तहत आने वाले शीर्ष 100 ओवरऑल कैटेगरी वाले शिक्षा संस्थान भी आवेदन कर सकते हैं। उच्च शिक्षण संस्थान में ऑनलाइन प्रोग्राम के जरिए यूजी,पीजी डिग्री, सर्टिफिकेट, डिप्लोमा की पढ़ाई कर सकते है।

यूजीसी ने कहा की  ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम में अगर कोई नियम का पालन नहीं करेगा, तो उस की शिकायत पुलिस से की जाएगी। दिल्ली विश्वविधायल के कॉलेजों को ऑनलाइन डिग्री प्रोग्राम शुरू करने की स्वायत्तता देने से पहले कानून की सलाह ली जाएगी । यूजीसी यह देखेगी की क्या डीयू एक्ट के तहत कॉलेजों को स्वायत्तता दी जा सकती है।

Todays Beets: