Sunday, July 12, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

इग्नू से कोर्स करने वाले छात्र सावधान हो जाएं, यूजीसी ने जारी की 50 में से 42 कोर्स की सूची

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इग्नू से कोर्स करने वाले छात्र सावधान हो जाएं, यूजीसी ने जारी की 50 में से 42 कोर्स की सूची

नई दिल्ली। इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) से डिग्री या फिर डिप्लोमा करने वाले छात्र सवाधान हो जाएं। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्स की सूची जारी कर दी है। बता दंे कि इग्नू इन दोनों कोर्स के अलावा 50 अन्य कोर्स भी करवाता है लेकिन यूजीसी ने उनमें से सिर्फ 42 की ही सूची जारी की है। ऐसे में अब छात्रों की परेशानियां बढ़ गई हैं। 

गौरतलब है कि यूजीसी के द्वारा 9 अगस्त को दिए गए निर्देशों के बाद यदि कोई भी कोई भी दूरस्थ शिक्षण संस्थान अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) से बिना मान्यता प्राप्त कोर्स चलाता है तो उसे मान्य नहीं माना जाएगा। यूजीसी के नए दिशा-निर्देश के बाद छात्रों में असमंजस की स्थिति पैदा हो गई है। 


ये भी पढ़ें - इग्नू शुरू करने जा रहा है रोजगारपरक कोर्स, जानें कहां और कैसे ले सकते हैं दाखिला

यहां बता दें कि इग्नू सर्टिफिकेट और डिप्लोमा के अलावा 50 से ज्यादा कोर्स अपने यहां से करवाता है लेकिन यूजीसी ने उसके 42 कोर्स की ही सूची जारी की है। यूजीसी ने इसके लिए दूरस्थ शिक्षा देने वाले संस्थानों और वहां संचालित कोर्स की सूची भी जारी की है। उसमें इग्नू द्वारा संचालित एमसीए, बीएड सहित अन्य लोकप्रिय कोर्स नहीं हैं। इग्नू के प्रोफेसर कपिल कुमार ने यूजीसी पर सवाल उठाते हुए कहा कि  एमसीए 1990 से इग्नू में संचालित है, बीएससी नर्सिंग एक प्रमुख कोर्स है। इसमें बड़ी संख्या में दाखिला होता है। यह 1994 से संचालित है। बैचलर ऑफ टूरिज्म 1994 से संचालित हो रहा है। यहां से पढ़कर निकले छात्र आज कई जगहों पर नौकरी कर रहे हैं। यूजीसी का यह निर्णय ठीक नहीं है। 

Todays Beets: