Monday, February 24, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

यूपीएससी ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब नाम वापस ले सकेंगे अभ्यर्थी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपीएससी ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब नाम वापस ले सकेंगे अभ्यर्थी

नई दिल्ली।  सिविल सेवा परीक्षा में सफल होना बहुत से युवाओं का सपना होता है और इसके लिए बड़ी संख्या में आवेदन भी किए जाते हैं। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की ओर से किए गए एक सर्वे में इस बात का पता चला है कि आवेदन करने वालों में से मात्र 50 फीसदी छात्र ही परीक्षा में बैठते हैं। ऐसे में अब यूपीएससी की ओर से छात्रों को नाम वापस लेने की सुविधा दी जा रही है। यूपीएससी की ओर से कहा गया है कि यह व्यवस्था इंजीनियरिंग सेवा परीक्षा, 2019 से शुरू होगी।

गौरतलब है कि एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष अरविंद सक्सेना ने कहा कि आयोग ने इस बात का अनुभव किया है कि प्रारंभिक परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले लाखों उम्मीदवारों में से मात्र 50 फीसदी युवा ही परीक्षा में शामिल होते हैं। ऐसे में आयोग के द्वारा किए गए इंतजाम बेकार हो जाते हैं। आवेदन करने के बाद अगर परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल नहीं होना चहते हैं तो वे अपना नाम वापस ले सकते हैं। 

ये भी पढ़ें - आॅनलाइन गेम्स को लेकर सीबीएसई सतर्क, स्कूलों के लिए जारी की एडवाइजरी


यहां बता दें कि यूपीएससी की ओर से हर साल तीन चरणों में प्रारंभिक, मुख्य और साक्षात्कार - में सिविल सेवा परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इसके जरिए भारतीय प्रशासनिक सेवा(आईएएस), भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) और भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) समेत दूसरी अखिल भारतीय सेवाओं के लिये अधिकारियों का चयन किया जाता है। परीक्षा से नाम वापस लेने वाले अभ्यर्थियों को अपने आवदेन का विवरण देना होगा। 

          

Todays Beets: