Thursday, November 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

यूपीएससी ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब नाम वापस ले सकेंगे अभ्यर्थी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपीएससी ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब नाम वापस ले सकेंगे अभ्यर्थी

नई दिल्ली।  सिविल सेवा परीक्षा में सफल होना बहुत से युवाओं का सपना होता है और इसके लिए बड़ी संख्या में आवेदन भी किए जाते हैं। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की ओर से किए गए एक सर्वे में इस बात का पता चला है कि आवेदन करने वालों में से मात्र 50 फीसदी छात्र ही परीक्षा में बैठते हैं। ऐसे में अब यूपीएससी की ओर से छात्रों को नाम वापस लेने की सुविधा दी जा रही है। यूपीएससी की ओर से कहा गया है कि यह व्यवस्था इंजीनियरिंग सेवा परीक्षा, 2019 से शुरू होगी।

गौरतलब है कि एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष अरविंद सक्सेना ने कहा कि आयोग ने इस बात का अनुभव किया है कि प्रारंभिक परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले लाखों उम्मीदवारों में से मात्र 50 फीसदी युवा ही परीक्षा में शामिल होते हैं। ऐसे में आयोग के द्वारा किए गए इंतजाम बेकार हो जाते हैं। आवेदन करने के बाद अगर परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल नहीं होना चहते हैं तो वे अपना नाम वापस ले सकते हैं। 

ये भी पढ़ें - आॅनलाइन गेम्स को लेकर सीबीएसई सतर्क, स्कूलों के लिए जारी की एडवाइजरी


यहां बता दें कि यूपीएससी की ओर से हर साल तीन चरणों में प्रारंभिक, मुख्य और साक्षात्कार - में सिविल सेवा परीक्षा का आयोजन किया जाता है। इसके जरिए भारतीय प्रशासनिक सेवा(आईएएस), भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) और भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) समेत दूसरी अखिल भारतीय सेवाओं के लिये अधिकारियों का चयन किया जाता है। परीक्षा से नाम वापस लेने वाले अभ्यर्थियों को अपने आवदेन का विवरण देना होगा। 

          

Todays Beets: