Monday, October 26, 2020

आज से शुरू हो गए मलमास  , ध्यान रखें अगले 30 दिन भूलकर भी न करें ये कर्मकांड 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आज से शुरू हो गए मलमास  , ध्यान रखें अगले 30 दिन भूलकर भी न करें ये कर्मकांड 

पौड़ी गढ़वाल । पितृ पक्ष के खत्म होने के साथ ही शुक्रवार से मलमास  का महीना शुरू हो गया है । हिंदू कैलेंडर के अनुसार, हर तीन साल में एक बार अतिरिक्त महीना जुड़ जाता है, जिसे अधिकमास, मलमास या पुरुषोत्तम कहा जाता है । असल में इस सबके पीछे का तर्क यह है कि सूर्य वर्ष 365 दिन और 6 घंटे का होता है , जबकि चंद्र वर्ष 354 दिनों का माना जाता है । दोनों वर्षों के बीच लगभग 11 दिनों का अंतर होता है। ऐसे में प्रतिवर्ष घटने वाले इन 11 दिनों को जोड़ा जाए , तो प्रत्येक तीन साल के बाद जोड़ा जाए तो यह एक माह के बराबर हो जाता है । इसी अंतर को घटाने के लिए प्रति तीन वर्ष के बाद एक चंद्र मास अस्तित्व में आता है, जिसे अधिकमास या मलमास कहते हैं । इस अवधि में जहां शुभ कार्यों का करना वर्जित होता है , वहीं कई तरह के कर्मकांड़ की भी मनाही होती है । 

पौराणिक कथा के अनुसार, हर मास के लिए एक देवता निर्धारित हैं। जब सूर्य और चंद्रमा के बीच संतुलन स्थापित करने के लिए मलमास प्रकट हुआ तो कोई भी देवता उसका अधिपति देव बनना स्वीकार नहीं किया। तब ऋषि-मुनियों ने भगवान विष्णु से निवेदन किया। उनके निवेदन पर भगवान विष्णु मलमास के अधिपति देव बनें। उनका एक नाम पुरुषोत्तम है, उस आधार पर ही मलमास का नाम पुरुषोत्तम मास पड़ा।

हनुमानजी के इन 12 नामों में से करें किसी का भी जाप , पवनपुत्र हरेंगे आपके कष्ट, जानें ये नाम

विदित हो कि आज यानि शुक्रवार 18 सितंबर से शुरू होने वाले यह मलमाल - अधिक मास या पुरुषोत्म मास आगामी 16 अक्टूबर तक रहेंगे । इन दिनों को अशुभ माना जाता है। 

बता दें कि इस समायवधि में विवाह कार्यों के साथ भी जनेऊ , नामकरण संस्कार तक वर्जित होते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस समायावधि में विवाह करने वाले जोड़ों को पारिवारिक सुख की प्राप्ति नहीं होती है । उनके घर में हमेशा कलेश बना रहेगा और दंपति के बीच भी संबंध अच्छे नहीं रहते हैं।


हनुमानजी की कृपा पाने के लिए अर्पित करें उनकी प्रिय वस्तुएं , जानें क्या हैं ये छोटे-छोटे उपाय

इसी क्रम में मान्यता ये भी है कि इस मास के दौरान कुछ अन्य मंगल कार्यों से भी बचना जाहिए । मसलन कर्णवेध, और मुंडन , गृह प्रवेश भी वर्जित माने जाते हैं, क्योंकि इस अवधि में किए गए कार्यों से रिश्तों के खराब होने की सम्भावना ज्यादा होती है ।  इतना ही नहीं व्यापारी वर्ग के लोगों को भी सलाह दी जाती है कि इस समयावधि में किसी भी नए व्यवसाय की शुरुआत न करें। मलमास में नया व्यवसाय आरम्भ करना आर्थिक मुश्किलों को जन्म देता है । इतना ही नहीं इस समयावधि में न तो किसी नई नौकरी को पकड़े या न ही किसी भी नए काम की शुरुआत करें ।

इस दौरान नए मकान का निर्माण और संपत्ति का क्रय करना वर्जित होता है । इस अवधि में किए गए काम शुभ कार्यों में बाधा डालते हैं । घर में सुख-शांति का बना रहना भी मुश्किल होता है । इतना ही नहीं अधिकमास में भौतिक जीवन से संबंधित कार्य करने की मनाही है । हालांकि जो कार्य पूर्व निश्चित हैं, वे पूरे किए जा सकते हैं ।  

मलमास  में भगवान विष्णु की पूजा करने का विधान है क्योंकि श्रीहरि विष्णु ही इस मास के अधिपति देव हैं। मलमास को पूजा पाठ, स्नान, दान आदि के लिए उत्तम माना गया है। इसमें दान का पुण्य कई गुणा प्राप्त होता है। 

spiritual     religion     Malmas 2020     Malmaas 2020 Date     malmas kab lagega     What Is Malmaas     malmas mein kya nahi kare       Adhikmaas  2020     purushottam maas 2020     Lifestyle    Relationship    Spirituality     why malmaas happend    sarv pitru amavasya      pitru paksh      amavasya      सर्व पितृ अमावस्या       pitru paksha news       pitru paksha 2020       know your zodiac sign        shani pradosh vrat       sanyog in saavan         horoscope         chandra grahan 2020      kaal sarp yog     rahu     ketu     jyotish    luner           lunar eclipse             chandra grahan            khandgrass eclipse              solar eclipse 2019           last solar eclipse 2020             खंडग्रास              चंद्रग्रहण             सूर्य ग्रहण              Devutthana      Ekadashi          काल सर्प योग            Utpanna Ekadashi          origin of Ekadashi fasting           Goddess Ekadashi               Lord Vishnu               dharm            auspicious dates            Subh muhurat             mangal karya              marriage dates in 2020            auspicious dates in 2020            dev uthani           ekadashI 2020                 शुभ मुहूर्त                   शुभ लग्न         एकादशी        पितृ पक्ष    श्राद्ध       देव उठावनी                 देवोत्थान एकादशी        अमावस्या      सर्व पितृ अमावस्या          चतुर्दशी       डूबे तारे       

Todays Beets: