Wednesday, August 5, 2020

काल सर्प योग में लग रहा है चंद्रग्रहण  , कुछ जातकों के व्यापार -नौकरी में  केतु लगाएगा अड़ंगा 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
काल सर्प योग में लग रहा है चंद्रग्रहण  , कुछ जातकों के व्यापार -नौकरी में  केतु लगाएगा अड़ंगा 

रुद्रप्रयाग । वर्ष 2020 में साल का तीसरा ग्रहण कुछ ही देर बाद लगने वाला है । हालांकि भारत में यह चंद्रग्रहण उपछाया वाला होने की वजह से इसका भारत में ज्यादा असर तो नहीं पड़ेगा , लेकिन ज्योतिषों के अनुसार , चंद्रग्रहण काल सर्प योग में लगने जा रहा है । अब राहु - केतु को पाप ग्रह कहा जाता है , ऐसे में ज्योतिषाचार्य का कहना है कि कुछ राशि के जातकों पर इसका ज्यादा असर पड़ेगा । ऐसे जातकों की नौकरी , व्यवसाय , स्वास्थ आदि पर असर पड़ सकता है । वहीं कुछ जातकों को इस ग्रहण से लाभ भी हो सकता है । लेकिन ज्योतिषों का साथ ही यह भी कहना है कि आगामी दो हफ्ते तक लोगों को बहुत सतर्क रहने की जरूरत है । असल में आषाढ़ माह में एक साथ दो ग्रहण बड़ी विपदा की ओर इशारा कर रहे हैं । ऐसे में भूकंप, सूनामी जैसी प्राकृतिक आपदाओं का खतरा काफी ज्यादा बढ़ जाता है ।

ज्योतिषों के अनुसार , एक माह में तीसरी बार लगने वाले इस ग्रहण (इस बार चंद्रग्रहण ) में सबसे ज्यादा खतरा केतु से है । राहु-केतु वायु के कारक हैं । केतु धरती पर आफत बढ़ाएगा । इसके चलते घर में रोग दस्तक दे सकते हैं । वैसे भी एक माह में तीन बड़े ग्रहण पृथ्वी के लिए अच्छा संकेत नहीं है । भले ही यह उपछाया चंद्रग्रहण हो लेकिन लोगों को इससे भी सतर्क रहने की जरूरत है । 

ज्योतिष के जानकारों के अनुसार , कालसर्प की कुंडली में ग्रहों के फंसने से आपको कई और भी नुकसान हो सकते हैं । धन के मामले में दिक्कतें बढ़ सकती हैं । नौकरी में परेशानियां हो सकती हैं. व्यापार में पार्टनर धोखा दे सकता है । 


वहीं जानकारों के अनुसार , धनु अपनी राशि में आ गया है जो धन, संतान और पति के लिए अच्छा है । घर में खुशहाली लाएगा , जबकि शुक्र प्यार-प्रेम के मामले में सही दिशा दिखाएगा । धन, ऐश्वर्य, गाड़ी, बंगला आदि के लाभ देगा. चंद्र ग्रहण में ये दोनों ही ग्रह लाभ देंगे । इतना ही नहीं शनि भी अपनी ही राशि में है तो यहां भी किसी तरह की परेशानी नहीं होने वाली है । शनि शत्रुओं का अंत करेगा । मुकदमे सुलझाएगा । परिस्थितियां बेहतर करेगा । कष्ट और कर्ज दोनों से राहत दिलाएगा । इसके चलते आने वाले 6 महीनों तक इसका लाभ मिल सकता है । 

वहीं इस दौरान शिवलिंग पर जल चढ़ाने , ग्रहण काल में गायत्री मंत्र का जाप करने और महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से लोगों को लाभ प्राप्त होगा । 

Todays Beets: