Sunday, July 5, 2020

कंकणी खंडग्रास सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर को , खतरनाक योग के कारण खराब स्वास्थ्य - परिणाम की आशंका

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कंकणी खंडग्रास सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर को , खतरनाक योग के कारण खराब स्वास्थ्य - परिणाम की आशंका

नई दिल्ली । दिसंबर महीने की 26 तारीख को एक बड़ी खगोलीय घटना होने वाली है , जिसका असर आम जनता की सेहत पर भी पड़ेगा। असल में आगामी माह की 26 तारीख को कंकणी खंडग्रास सूर्यग्रहण पड़ने वाला है । यह ग्रहण षड़ग्रही योग में लगने जा रहा है , जिसके चलते इसका प्रभाव तीखा होने वाला है । वर्ष 2019 का यह अंतिम ग्रहण सुबह 8.20 बजे लगेगा , जो 10.57 बजे तक बना रहेगा। धनु राशि प्रवेश के समय सूर्य ग्रस्त होंगे, अत: यह और भी खतरनाक योग बना रहा है। ग्रहण का सूतक 25 दिसंबर की रात 8.20 बजे से ही प्रारंभ हो जाएगा। शास्त्रों के अनुसार जिस समय सूर्य या चंद्र ग्रहण प्रारंभ होते हैं, उससे ठीक 12 घंटे पूर्व सूतक लग जाता है। खास बात ये भी है कि यह ग्रहण भारत सहित अनेक देशों में दिखाई देगा। 

ज्योतिष के जानकारों का कहना है कि आकाशीय घटनाओं में षडग्रही योग को बहुत खतरनाक माना जाता है। षडग्रही योग के प्रभाव अभी से शुरू हो गए हैं। षडग्रही योग ग्रहण के दिन पड़ जाए तो उसे बेहद तीक्ष्ण माना जाता है। 26 दिसंबर को ही सूर्य, चंद्र, बुध, गुरु, शनि और केतु एक साथ धनु राशि में उपस्थित हो जाएंगे। ऐसा होने पर आपदाएं आती हैं और भूकंप भी ला सकते हैं।

कंकणी दर्शन सवेरे 9.33 बजे हो जाएगा। समय गणना के अनुसार एक तिथि 19 घंटे से 24 घंटे के बीच पड़ती है। यदि कोई तिथि प्रथम दिन सूर्योदय के पश्चात आती है और अगले दिन सूर्योदय से पहले समाप्त हो जाती है तो उसे क्षय तिथि माना जाता है। इस ग्रहण का प्रभाव अनेक राशियों पर तो पड़ेगा ही, सामूहिक रूप से भी पूरे विश्व पर पड़ेगा। इस दिन भूकंप आने की सर्वाधिक संभावनाएं रहेगी। 


ग्रहण से पूर्व पौष कृष्ण पक्ष की चतुर्थी से आकाशीय क्रम बिगड़ना शुरू हो जाएगा । उसी दिन से सूर्य ग्रहण की गिरती भी शुरू होगी। यह ग्रहण अपना सूतक एक दिन पूर्व की रात्रि में लेकर आ रहा है ।

 

Todays Beets: