Thursday, April 2, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

मध्य प्रदेश में भाजपा ने टिकट के लिए बागी हुए 64 नेताओं को पार्टी से निकाला, राजस्थान में दलबलदुओं ने काटी चांदी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मध्य प्रदेश में भाजपा ने टिकट के लिए बागी हुए 64 नेताओं को पार्टी से निकाला, राजस्थान में दलबलदुओं ने काटी चांदी

भोपाल/जयपुर । राजस्थान की तरह मध्य प्रदेश में भी टिकट बंटवारे को लेकर भाजपा के नेताओं का बागी होने का क्रम जारी है। राजस्थान के एक पूर्व भाजपा सांसद और विधायक का पार्टी से नाराज होकर कांग्रेस में शामिल होने की खबरों के बाद अब मध्य प्रदेश में टिकट न मिलने से नाराज नेताओं के बागी सुर सुनने में आ रहे हैं। हालांकि भाजपा ने ऐसे नेताओं पर कार्रवाई करते हुए 64 नेताओं को पार्टी से निकाल दिया है। हालांकि पार्टी के इस रुख से जहां पार्टी के भीतर नाराजगी पैदा हो रही है, वहीं अब पार्टी के नेताओं को भीतरघात की भी आशंका होने लगी है। 

वहीं राजस्थान में दूसरी बार सत्ता में आने की जुगत में लगी भाजपा जीत के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। जहां एक ओर भाजपा के कई दिग्गत नेता टिकट न मिलने के चलते भाजपा के बागी हो रहे हैं। वहीं कई ने भाजपा का दामन छोड़ कांग्रेस का हाथ थाम लिया है तो कई ने इस तरह के संकेत दिए है। इस सब के बावजूद पिछले विधानसभा चुनावों में भाजपा के खिलाफ खड़े होने वाले कुछ विपक्षी दलों के नेताओं को इस बार पार्टी अपने टिकट से चुनाव मैदान में उतार रही है। ऐसे नेताओं की संख्या 1-2 नहीं बल्कि दूसरे दलों ने भाजपा में आए 6 दलबदलू नेताओं को भाजपा ने टिकट दिया है। 

जानें किसे-किसे दिया गया है टिकट

गोमला देवी - यह राज्यसभा सांसद किरोड़ीलाल मीणा की पत्नी है और भाजपा ने इन्हें सपोटरा विधानसभा सीट से उतारा है। पिछली बार यह भाजपा के खिलाफ राजगढ़ सीट पर उतरी थीं

बिहारी लाख विश्नोई की बात करें तो इस बार भाजपा ने उन्हें नोखा सीट से उतारा है। पिछली बार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ते हुए उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार को भारी मतों से हराया था। इस बार भाजपा ने उन्हें टिकट दिया है।


गुरदीप सिंह को भाजपा ने संगरिया विधानसभा सीट से खड़ा किया है। पिछली बार उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ते हुए भाजपा की जड़े हिला दी थीं । पिछली बार वह जीते तो नहीं थे लेकिन इस बार भाजपा ने उन्हें अपने झंडे के तले लड़वाने का फैसला लिया है।

कन्हैया लाल मीणा को भाजपा ने अपनी विधायक अंजू देवी धानका का टिकट काटकर बस्सी सीट से उम्मीदवार बनाया है। 

अभिनेष महर्षि को भाजपा ने रतनगढ़ सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है। पिछले चुनाव में वह भाजपा के खिलाफ लड़े थे। चौंकाने वाली बात ये है कि वह भाजपा को चुनौती तक नहीं दे पाए थे, लेकिन इस बार पार्टी ने उनपर दांव खेला है।

अशोक शर्मा को राजाखेड़ा से मैदान में उतारा है, पिछले चुनाव में वह धौलपुर सीट से भाजपा के खिलाफ ही मैदान में उतरे थे।

Todays Beets: