Wednesday, July 17, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

मध्य प्रदेश में भाजपा ने टिकट के लिए बागी हुए 64 नेताओं को पार्टी से निकाला, राजस्थान में दलबलदुओं ने काटी चांदी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मध्य प्रदेश में भाजपा ने टिकट के लिए बागी हुए 64 नेताओं को पार्टी से निकाला, राजस्थान में दलबलदुओं ने काटी चांदी

भोपाल/जयपुर । राजस्थान की तरह मध्य प्रदेश में भी टिकट बंटवारे को लेकर भाजपा के नेताओं का बागी होने का क्रम जारी है। राजस्थान के एक पूर्व भाजपा सांसद और विधायक का पार्टी से नाराज होकर कांग्रेस में शामिल होने की खबरों के बाद अब मध्य प्रदेश में टिकट न मिलने से नाराज नेताओं के बागी सुर सुनने में आ रहे हैं। हालांकि भाजपा ने ऐसे नेताओं पर कार्रवाई करते हुए 64 नेताओं को पार्टी से निकाल दिया है। हालांकि पार्टी के इस रुख से जहां पार्टी के भीतर नाराजगी पैदा हो रही है, वहीं अब पार्टी के नेताओं को भीतरघात की भी आशंका होने लगी है। 

वहीं राजस्थान में दूसरी बार सत्ता में आने की जुगत में लगी भाजपा जीत के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। जहां एक ओर भाजपा के कई दिग्गत नेता टिकट न मिलने के चलते भाजपा के बागी हो रहे हैं। वहीं कई ने भाजपा का दामन छोड़ कांग्रेस का हाथ थाम लिया है तो कई ने इस तरह के संकेत दिए है। इस सब के बावजूद पिछले विधानसभा चुनावों में भाजपा के खिलाफ खड़े होने वाले कुछ विपक्षी दलों के नेताओं को इस बार पार्टी अपने टिकट से चुनाव मैदान में उतार रही है। ऐसे नेताओं की संख्या 1-2 नहीं बल्कि दूसरे दलों ने भाजपा में आए 6 दलबदलू नेताओं को भाजपा ने टिकट दिया है। 

जानें किसे-किसे दिया गया है टिकट

गोमला देवी - यह राज्यसभा सांसद किरोड़ीलाल मीणा की पत्नी है और भाजपा ने इन्हें सपोटरा विधानसभा सीट से उतारा है। पिछली बार यह भाजपा के खिलाफ राजगढ़ सीट पर उतरी थीं

बिहारी लाख विश्नोई की बात करें तो इस बार भाजपा ने उन्हें नोखा सीट से उतारा है। पिछली बार कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ते हुए उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार को भारी मतों से हराया था। इस बार भाजपा ने उन्हें टिकट दिया है।


गुरदीप सिंह को भाजपा ने संगरिया विधानसभा सीट से खड़ा किया है। पिछली बार उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ते हुए भाजपा की जड़े हिला दी थीं । पिछली बार वह जीते तो नहीं थे लेकिन इस बार भाजपा ने उन्हें अपने झंडे के तले लड़वाने का फैसला लिया है।

कन्हैया लाल मीणा को भाजपा ने अपनी विधायक अंजू देवी धानका का टिकट काटकर बस्सी सीट से उम्मीदवार बनाया है। 

अभिनेष महर्षि को भाजपा ने रतनगढ़ सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है। पिछले चुनाव में वह भाजपा के खिलाफ लड़े थे। चौंकाने वाली बात ये है कि वह भाजपा को चुनौती तक नहीं दे पाए थे, लेकिन इस बार पार्टी ने उनपर दांव खेला है।

अशोक शर्मा को राजाखेड़ा से मैदान में उतारा है, पिछले चुनाव में वह धौलपुर सीट से भाजपा के खिलाफ ही मैदान में उतरे थे।

Todays Beets: