Friday, February 28, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

नीतीश कुमार ने सदन में साबित किया बहुमत, पक्ष में पड़े 131 वोट विपक्ष में 108

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नीतीश कुमार ने सदन में साबित किया बहुमत, पक्ष में पड़े 131 वोट विपक्ष में 108

पटना। बिहार की राजनीति में भूचाल लाने वाले सीएम नीतीश कुमार ने शुक्रवार को भारी हंगामे के बीच सदन में विश्वास मत जीत लिया है। सदन में नीतीश कुमार के पक्ष में 131 विधायकों ने साइन किए, जबकि राजद, कांग्रेस और सीपीआई के विधायकों समेत 108 विधायकों ने साइन किए। इस दौरान सामने आया है किसी सदन मेंं किसी प्रकार की क्रॉस वोटिंग नहीं हुई। वहीं, बताया जा रहा है कि राज्य में नए मंत्रीमंडल के लिए सीएम नीतीश कुमार दिल्ली आ रहे हैं, जहां एक बार फिर नेताओं को मंत्री पद दिए जाने पर मंत्रणा होगी।

वहीं विश्वास मत से पहले तेजस्वी यादव ने नीतीश पर जमकर हमला बोला. जवाब में नीतीश कुमार ने कहा कि ये कांग्रेस के लोग हैं अहंकार में जीने वाले लोग हैं। नीतीश ने कहा कि 15 से ज्यादा सीटें कांग्रेस को नहीं मिलने वाली थी लेकिन हमने महागठबंधन में 40 सीटों पर चुनाव लड़वाया। विश्वास मत से पहले राजद विधायक लगातार हंगामा कर रहे हैं. राजद विधायकों ने विधानसभा के बाहर धरना भी दिया। तेजस्वी ने पहले बोलते हुए नीतीश कुमार पर काफी तीखे आरोप लगाए थे। 


पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि मैं इस प्रस्ताव के विरोध में खड़ा हूं। हमें भाजपा के खिलाफ वोट मिला था, ये सब  पूर्वनियोजित था, ये एक तरह से लोकतंत्र की हत्या है, भाजपा के भी कई मंत्री हैं जिनपर आरोप हैं, नीतीश कुमार और सुशील मोदी पर भी आरोप हैं। तेजस्वी ने कहा कि कांग्रेस और राजद ने मिलकर नीतीश कुमार के वजूद को बचाया था, नीतीश ने बिहार की जनता को धोखा दिया।

Todays Beets: