Wednesday, July 17, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

यूपी में शिक्षकों के 69 हजार पदों पर भर्ती का परीक्षा परिणाम फिर टला , कोर्ट में अब अगली 28 जनवरी को होगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी में शिक्षकों के 69 हजार पदों पर भर्ती का परीक्षा परिणाम फिर टला , कोर्ट में अब अगली 28 जनवरी को होगी

लखनऊ । इलाहबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने गत 6 जनवरी को यूपी में सहायक शिक्षकों के 69,000 पदों पर भर्ती परीक्षा के आने वाले परीक्षा परिणामों की घोषणा पर आगामी  28 जनवरी तक के लिए रोक लगा दी है। इस दौरान कोर्ट ने कहा कि ऐसा नहीं लगता कि राज्य सरकार के अधिकारी इस भर्ती प्रक्रिया को संपन्न भी करवाना चाहते हैं । कोर्ट ने कहा कि हम तो परीक्षा ही निरस्त कर देते, अगर लाखों अभ्यर्थियों के हितों का ख्याल न होता। इस तरह सोमवार को लखनऊ बेंच ने 2 घंटे चली बहस के बाद यथास्थित बरकरार रखने का आदेश दिया । 

असल में सहायक शिक्षकों के 69 हजार पदों पर भर्ती की परीक्षा के क्वालिफाइंग मार्क्स को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच के समक्ष चुनौती दी गई थी, जिसके चले परीक्षा परिणामों को रोका गया है। हाईकोर्ट में परीक्षा परिणाम के खिलाफ लगाई याचिकाओं के अधिवक्ता अमित सिंह भदौरिया ने बताया कि दर्जनों याचियों की ओर से दाखिल अलग-अलग नौ याचिकाओं में सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा 2019 के क्वालिफाइंग मार्क्स को चुनौती दी गई। उन्होंने बताया कि 7 जनवरी को राज्य सरकार ने जनरल कैटगरी के लिए क्वालिफाइंग मार्क्स 65 प्रतिशत जबकि रिजर्व कैटगरी के लिए 60 प्रतिशत रखने की घोषणा की है।


बता दें कि याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि आवेदन के लिए जारी विज्ञापन में ऐसे किसी क्वालिफाइंग मार्क्स की बात नहीं की गई थी। लिहाजा बाद में क्वालिफाइंग मार्क्स तय करना विधि सम्मत नहीं है। परीक्षा होने के बाद सरकार ने नियमों में परिवर्तन करते हुए क्वालिफाइंग मार्क्स तय कर दिए जबकि यह तय सिद्धांत है कि एक बार भर्ती प्रक्रिया आरम्भ होने के बाद नियमों मे परिवर्तन नहीं किया जा सकता है। सरकार की ओर से याचिका का विरोध किया गया।

Todays Beets: