Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

यूपी में शिक्षकों के 69 हजार पदों पर भर्ती का परीक्षा परिणाम फिर टला , कोर्ट में अब अगली 28 जनवरी को होगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी में शिक्षकों के 69 हजार पदों पर भर्ती का परीक्षा परिणाम फिर टला , कोर्ट में अब अगली 28 जनवरी को होगी

लखनऊ । इलाहबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने गत 6 जनवरी को यूपी में सहायक शिक्षकों के 69,000 पदों पर भर्ती परीक्षा के आने वाले परीक्षा परिणामों की घोषणा पर आगामी  28 जनवरी तक के लिए रोक लगा दी है। इस दौरान कोर्ट ने कहा कि ऐसा नहीं लगता कि राज्य सरकार के अधिकारी इस भर्ती प्रक्रिया को संपन्न भी करवाना चाहते हैं । कोर्ट ने कहा कि हम तो परीक्षा ही निरस्त कर देते, अगर लाखों अभ्यर्थियों के हितों का ख्याल न होता। इस तरह सोमवार को लखनऊ बेंच ने 2 घंटे चली बहस के बाद यथास्थित बरकरार रखने का आदेश दिया । 

असल में सहायक शिक्षकों के 69 हजार पदों पर भर्ती की परीक्षा के क्वालिफाइंग मार्क्स को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच के समक्ष चुनौती दी गई थी, जिसके चले परीक्षा परिणामों को रोका गया है। हाईकोर्ट में परीक्षा परिणाम के खिलाफ लगाई याचिकाओं के अधिवक्ता अमित सिंह भदौरिया ने बताया कि दर्जनों याचियों की ओर से दाखिल अलग-अलग नौ याचिकाओं में सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा 2019 के क्वालिफाइंग मार्क्स को चुनौती दी गई। उन्होंने बताया कि 7 जनवरी को राज्य सरकार ने जनरल कैटगरी के लिए क्वालिफाइंग मार्क्स 65 प्रतिशत जबकि रिजर्व कैटगरी के लिए 60 प्रतिशत रखने की घोषणा की है।


बता दें कि याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि आवेदन के लिए जारी विज्ञापन में ऐसे किसी क्वालिफाइंग मार्क्स की बात नहीं की गई थी। लिहाजा बाद में क्वालिफाइंग मार्क्स तय करना विधि सम्मत नहीं है। परीक्षा होने के बाद सरकार ने नियमों में परिवर्तन करते हुए क्वालिफाइंग मार्क्स तय कर दिए जबकि यह तय सिद्धांत है कि एक बार भर्ती प्रक्रिया आरम्भ होने के बाद नियमों मे परिवर्तन नहीं किया जा सकता है। सरकार की ओर से याचिका का विरोध किया गया।

Todays Beets: