Sunday, November 1, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

यूपी पुलिस भर्ती में 25000 नौजवान दौड़ में फेल, अब बोर्ड जारी करेगा एक और लिस्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी पुलिस भर्ती में 25000 नौजवान दौड़ में फेल, अब बोर्ड जारी करेगा एक और लिस्ट

लखनऊ। यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा में 25000 से ज्यादा नौजवान दौड़ में फेल हो गए हैं। अब इतनी बड़ी संख्या में नौजवानों के फेल होने के बाद यूपी पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड ने कहा कि सिपाही भर्ती-2018 में दस्तावेजों के सत्यापन और शारीरिक परीक्षण के लिए कटऑफ अंक कम करते हुए एक और लिस्ट जारी की जाएगी। यूपी पुलिस भर्ती बोर्ड के चेयरमैन ने बताया कि भर्ती प्रक्रिया पूरी करने के लिए दस्तावेजों का सत्यापन और शारीरिक परीक्षा के लिए खाली पदों के सापेक्ष डेढ़ गुना अभ्यर्थियों को बुलाया गया था।

गौरतलब है कि शारीरिक परीक्षा में इतनी बड़ी संख्या में नौजवानों के फेल होने से अब अतिरिक्त नौजवानों को बुलाने की जरूरत पड़ गई है। ऐसे में भर्ती बोर्ड की तरफ से जल्द ही नई कटऑफ लिस्ट जारी कर बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा। 


ये भी पढ़ें - आईआईटी दिल्ली में शिक्षित बेरोजगारों के लिए नौकरी के मौके, करें आवेदन

यहां बता दें कि पुलिस भर्ती परीक्षा में अधिकारियों की लापरवाही भी सामने आई है। पहली बात तो यह सामने आई की नौजवानों के घर से 500 किलोमीटर दूर परीक्षा केंद्र बना दिए गए। वहीं दस्तावेजों के सत्यापन के समय छूट गए दस्तावेज को लाने के लिए सिर्फ 2 दिनों का समय दिया गया। घर से इतनी दूर सेंटर होने के चलते बड़ी संख्या में उम्मीदवार पहुंच ही नहीं पाए। यूपी पुलिस भर्ती के दौरान दी गई जानकारी के अनुसार, दस्तावेजों के सत्यापन के लिए भर्ती बोर्ड ने सभी परिक्षेत्रीय मुख्यालयों पर व्यवस्था की थी ताकि नौजवानों को ज्यादा दूर न जाना पड़े। छात्रों का आरोप है कि दस्तावेज जमा करने की समयसीमा के बारे में न तो विज्ञप्ति और न ही बोर्ड की ओर से किसी तरह की जानकारी दी गई। इसके बावजूद उन्हें बाहर कर दिया गया।  

Todays Beets: