Tuesday, January 21, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

यूपी पुलिस भर्ती में 25000 नौजवान दौड़ में फेल, अब बोर्ड जारी करेगा एक और लिस्ट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी पुलिस भर्ती में 25000 नौजवान दौड़ में फेल, अब बोर्ड जारी करेगा एक और लिस्ट

लखनऊ। यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा में 25000 से ज्यादा नौजवान दौड़ में फेल हो गए हैं। अब इतनी बड़ी संख्या में नौजवानों के फेल होने के बाद यूपी पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड ने कहा कि सिपाही भर्ती-2018 में दस्तावेजों के सत्यापन और शारीरिक परीक्षण के लिए कटऑफ अंक कम करते हुए एक और लिस्ट जारी की जाएगी। यूपी पुलिस भर्ती बोर्ड के चेयरमैन ने बताया कि भर्ती प्रक्रिया पूरी करने के लिए दस्तावेजों का सत्यापन और शारीरिक परीक्षा के लिए खाली पदों के सापेक्ष डेढ़ गुना अभ्यर्थियों को बुलाया गया था।

गौरतलब है कि शारीरिक परीक्षा में इतनी बड़ी संख्या में नौजवानों के फेल होने से अब अतिरिक्त नौजवानों को बुलाने की जरूरत पड़ गई है। ऐसे में भर्ती बोर्ड की तरफ से जल्द ही नई कटऑफ लिस्ट जारी कर बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा। 


ये भी पढ़ें - आईआईटी दिल्ली में शिक्षित बेरोजगारों के लिए नौकरी के मौके, करें आवेदन

यहां बता दें कि पुलिस भर्ती परीक्षा में अधिकारियों की लापरवाही भी सामने आई है। पहली बात तो यह सामने आई की नौजवानों के घर से 500 किलोमीटर दूर परीक्षा केंद्र बना दिए गए। वहीं दस्तावेजों के सत्यापन के समय छूट गए दस्तावेज को लाने के लिए सिर्फ 2 दिनों का समय दिया गया। घर से इतनी दूर सेंटर होने के चलते बड़ी संख्या में उम्मीदवार पहुंच ही नहीं पाए। यूपी पुलिस भर्ती के दौरान दी गई जानकारी के अनुसार, दस्तावेजों के सत्यापन के लिए भर्ती बोर्ड ने सभी परिक्षेत्रीय मुख्यालयों पर व्यवस्था की थी ताकि नौजवानों को ज्यादा दूर न जाना पड़े। छात्रों का आरोप है कि दस्तावेज जमा करने की समयसीमा के बारे में न तो विज्ञप्ति और न ही बोर्ड की ओर से किसी तरह की जानकारी दी गई। इसके बावजूद उन्हें बाहर कर दिया गया।  

Todays Beets: