Saturday, October 19, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

यूपी पावर कारपोरेशन देगा राज्य में करीब 15 लाख युवाओं को रोजगार , बिलिंग - राजस्व वसूली से लेकर कई पदों पर करेगा भर्ती

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यूपी पावर कारपोरेशन देगा राज्य में करीब 15 लाख युवाओं को रोजगार , बिलिंग - राजस्व वसूली से लेकर कई पदों पर करेगा भर्ती

लखनऊ । यूपी पावर कारपोरेशन ने गांवों में बिजली के साथ ही रोजगार पहुंचाने की भी योजना बनाई है । इसके तहत उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में बेरोजगार युवाओं के लिए रोजगार सृजित किए जा रहे है, जिसमें करीब 15 लाख से अधिक युवाओं को लाभ पहुंचेगा । इन युवाओं को निर्माण कार्य, रखरखाव के अलावा बिलिंग- राजस्व वसूली जैसे कामों के लिए जोड़ा जाएगा । पॉवर कारपोरेशन ने पिछले दिनों 7 हजार से अधिक स्थायी और करीब 20 हजार से अधिक अस्थायी पदों पर नौकरियां दी हैं। चुनाव आचार संहिता खत्म होने के बाद अब इसमें तेजी आएगी।

बता दें कि पावर कारपोरेशन आने वाले दिनों में अवर अभियंता से लेकर  कंप्यूटर आपरेटर, ऑफिस स्टाफ, बिजली मरम्मत करने वालों के साथ ही कई अन्य पदों पर भर्तियां निकालने वाला है । इस योजना पर यूपी पॉवर कारपोरेशन के अफसरों का कहना है कि स्थायी भर्तियों के अलावा बड़े स्तर पर संविदा-आउटसोर्सिंग के जरिए कर्मचारियों को लिया जाएगा। इससे बेहतर बिजली देने के साथ राजस्व वसूली और बिलिंग की स्थिति भी सुधरेगी।

मिली जानकारी के मुताबिक अभी कई जिलों में उपकेंद्रों के रखरखाव की जिम्मेदारी का काम संविदा या आउटसोर्स कर्मियों पर निर्भर है। कई उपकेंद्र में तो अवर अभियंता तक संविदा पर हैं। उपकेंद्रों की लगातार बढ़ती संख्या के चलते कर्मचारियों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी होगी। इतना ही नहीं बिजली फाल्ट होने की स्थिति में उसे ठीक करने वाले कर्मचारियों में चार से पांच लोग होते हैं। इसमें प्रशिक्षित और अप्रशिक्षित दोनों तरह के कर्मचारियों की नियुक्ति होती है, जिनकी संख्या अब बढ़ाई जाएगी ।


बात अगर बिलिंग जनसेवा केंद्र की करें तो गांवों में सबसे अहम काम 100 फीसदी बिलिंग का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए बिलिंग एजेंसियों के जरिए भर्तियां होंगी। वहीं राजस्व वसूली के लिए भी गांव-गांव में काम दिया जाना है। जनसेवा केंद्र पर बिजली बिल जमा करने का काम प्रायोगिक तौर पर काफी सफल रहा है। बता दें कि पश्चिमांचल वितरण निगम के कई जिलों में यह काम बेहतर ढंग से हो रहा है । ऐसे में अब इन कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर सुविधाएं बेहतर करने पर ध्यान दिया जा रहा है ।

 

Todays Beets: