Wednesday, July 17, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

95 फीसदी भारतीय को है दांतों की बीमारी,रिपोर्ट  में हुआ खुलासा

अंग्वाल संवाददाता
95 फीसदी भारतीय को है दांतों की बीमारी,रिपोर्ट  में हुआ खुलासा

नई दिल्ली। भारत में फास्ट फूड खाने की बढ़ती आदतें अब भारतीयों की सेहत के साथ- साथ उनके दांतों पर भी असर डाल रही हैं। हाल में हुए एक अध्ययन में पाया गया है कि 95 फीसदी भारतीय मूसड़ों की समस्या से प्रभावित हैं। इसमें सामने आया है कि 50 फीसदी लोग आपको दांतों को साफ करने के लिए टूथब्रश का इस्तेमाल नहीं करते है। साथ ही रिपोर्ट में सामने आया है कि 15 साल से कम उम्र के 70 फीसदी बच्चों के दांत खराब हो चुके हैं। इसका कारण बच्चों का दांतों को ढंग से ब्रश न करने को अहम कारण बताया जा रहा है। भारतीय लोगों में अपने दांतों को साफ रखने वाले लोगो की संख्या बहुत ही कम है। डॉक्टरों के सलाह देने के बाद भी भारतीय दांतों की बीमारी को गंभीरता से नहीं लेते हैं। दांतों को साफ रखने के लिए डॉक्टर की तरफ से दिन में दो बार ब्रश करने की सलाह दी जाती है, लेकिन इस सलाह को अपनाने वालों की संख्या बहुत ही कम है। 

यह भी पढ़े- बढ़ानी है अगर एकाग्रता तो सुधारें अपनी सोने की आदतों को..,


वहीं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की रिपोर्ट ने बताया कि भारतीय लोग दांतों में समस्या होने पर डेंटिस्ट के पास जाने के बजाय खुद ही बीमारियों का इलाज ढूंढते हैं । कुछ चीजों से परहेज कर खुद ही अपना उपचार करने की कोशिश करते हैं। साथ ही रिपोर्ट में बताया गया कि दांतों में सेंसिटिविटी एक बड़ी समस्या हैं, लेकिन इस समस्या से पीड़ित केवल 4 फीसदी लोग ही डेंटिस्ट के पास सलाह और उपचार के लिए जाते हैं।    

यह भी पढ़े- कैंसर पीड़ितों को नहीं सहना पड़ेगा इलाज के दौरान जानलेवा दर्द, जेएनयू के वैज्ञानिक डॉक्टर ने खोज निकाली यह दवा 

Todays Beets: