Saturday, January 18, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

इस नई दवा के इजाद से दोबारा पा सकेंगे सुनने की शक्ति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इस नई दवा के इजाद से दोबारा पा सकेंगे सुनने की शक्ति

 नई दिल्ली। वैसे तो बहरेपन का इलाज समय रहते करवा लिया जाए तो व्यक्ति इस समस्या से बाहर आ सकता है पर आनुवांशिक बेहरेपन का इलाज लगभग लाइलाज होता है लेकिन अमेरिका के विशेषज्ञयों ने एक ऐसी दवा का इजाद किया है जिसकी मदद से सुनने की शक्ति खो चुके लोगों की सुनने की शक्ति वापस आ सकती है। उनके दावे के मुताबिक  इस दवा से कानों के भीतर मौजूद बेहद अहम रोंए की कोशिकाओं को जीवित रखने वाले जींस को जगाए रखा जा सकेगा। 

आप को बता दें कि यह अध्ययन नेशनल इंस्टीयूट आफ डिसऑर्डर के विशेषज्ञों की टीम ने किया है। इस अध्ययन में उन्होंने डीएफएनए 27 जीन का पता लगाया है। जो की आनुवांशिक बहरेपन का जिम्मेदार होता है। यह शोध सबसे पहले चूहों पर किया गया था। इस शोध के सह लेखक थॉमस फ्रीडमैन के अनुसार उनकी टीम चूहे के बहरेपन को पूरी तरह दूर करने में सफल रही है।


ये भी पढ़े-भूलकर भी डायबिटीज के मरीज न खाएं ये फल और सब्जियां, नहीं तो हो सकती है भयानक समस्या 

शोधकर्तांओं का कहना है कि हमारे द्वारा बनाई गई यह दवा एक स्विच का काम करेगी। इसकी मदद से सुनने की शक्ति को दोबारा प्राप्त किया जा सकता है। अगर इस शोध में उन्हें बड़े तौर पर सफलता प्राप्त हो जाती है तो इस दवा की मदद से वंशानुगत बेहरेपन के इलाज में मदद मिलेगी।

Todays Beets: