Wednesday, November 13, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

अपने चलने की आदतों में करें बदलाव , BP - कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल के साथ शरीर से टॉक्सिन कम करने में पाए मदद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अपने चलने की आदतों में करें बदलाव , BP - कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल के साथ शरीर से टॉक्सिन कम करने में पाए मदद

नई दिल्ली । ऑफिस में घंटों कंप्यूर के सामने बैठकर काम करने से भले ही हमारी ऑफिस में छवि बेतहर बनती है , लेकिन हमारी सेहत के लिए यह बड़ा हानिकारक है । इससे हमारी सक्रियता कम होने के साथ ही हमारी सेहत पर भी काफी असर पड़ता है । अमूमन , ऑफिस जॉब करने वाले लोगों में मोटापा, हाई बीपी, डायबिटीज और हार्ट संबंधी समस्याएं देखने में आती हैं । हालांकि लोग इन दिनों अपनी सेहत को लेकर सतर्क भी हो गए हैं,  लेकिन सही तरीके न अपनाने के चलते उनकी सतर्कता उन्हें लाभ और राहत नहीं पहुंचा पाती । ऐसे में कुछ आसान कोशिशें आपकी समस्याओं का खात्मा कर सकती हैं, वो भी सिर्फ नियमित चलने भर से ।

बता दें कि नियमित रूप से चलना ना सिर्फ स्वस्थ रखता है, जोड़ सलामत रहते हैं, बल्कि आप युवा और आकर्षक भी नजर आते हैं। शरीर में ऊर्जा का स्तर अधिक रहता है। असल में लगातार चलने से जहां आपका ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है, वहीं ऐसे लोगों को हार्ट संबंधी समस्याएं भी कम होती है। ऐसे लोगों का हार्ट और शरीर तेज हृदय गति के साथ सामंजस्य बिठाने में सक्षम होता है।

अगर बात तेज गति से चलने वाले लोगों की करें तो ऐसे लोगों के फेफड़ों की स्थिति बेहतर मांपी जाती है । ऐसे लोगों का पाचन तंत्र ठीक से कार्य करता है। इतना ही नहीं चलने से आपके शरीर मे मौजूद टॉक्सिन वाहर निकलता है । इतना ही नहीं आपकी रीढ़ का लचीलापन भी बना रहता है । वहीं चलने से शुगर का स्तर सामान्य रहता है, इंसुलिन क्षमता में सुधार होता है। वजन कम नहीं होता तो भी इसके बढ़ने की आशंका कम हो जाती है।

पैदल चलने वाले लोगों के अध्ययन में पाया गया है कि इससे उनके शरीर में खुशी का एहसास करवाने वाले हार्मोन का स्त्राव होता है, बल्कि ऐसा करने से नींद भी बेहतर आती है । वहीं तनाव भी कम होता है ।


 

 

 

 

Todays Beets: