Sunday, November 1, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक से बच्चों को रखें दूर, मोटापे के साथ मानसिक रूप से हो सकते हैं बीमार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक से बच्चों को रखें दूर, मोटापे के साथ मानसिक रूप से हो सकते हैं बीमार

नई दिल्ली। आज की इस तेज रफ्तार जिन्दगी में लोगों के पास सही तरीके से भोजन तक करने का समय नहीं है। ऐसे में वे एनर्जी ड्रिंक या हाई कैलोरी वाली ड्रिंक का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इसे पीने के बाद वे काफी फ्रेश महसूस करते हैं लेकिन उन्हें इस बात का पता नहीं होता वे अंजाने में मोटापे को न्योता दे रहे हैं। इसके साथ बच्चों में इसकी वजह से मानसिक बीमारी भी पैदा हो जाती है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे एनर्जी ड्रिंक बच्चों को बेचने पर प्रतिबंध लगाना सही रहेगा। 

गौरतलब है कि बच्चों और युवाओं को मोटापा और मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से बचाने के लिए उन्हें कैफीन वाले एनर्जी ड्रिंक से दूर रखने की जरूरत है। ऐसा कहा जाता है कि कैफीन को दुनिया भर में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाला साइकोएक्टिव ड्रग है। यह इंसान की शारीरिक सक्रियता को बढ़ा देता है। 

ये भी पढ़ें-फुलक्रम दूध पिएं और अपने दिल को रखेें सेहतमंद, शोध में हुआ खुलासा


यहां बता दें कि ब्रिटेन के रॉयल कॉलेज ऑफ पेडियाट्रिक्स एंड चाइल्ड हेल्थ (आरसीपीसीएच) के प्रोफेसर रसेल वाइनर का कहना है कि कैफीन बेचैनी को भी बढ़ाता है और नींद में रुकावट भी पैदा करता है। शोध में इस बात का भी पता चला है कि कैफीन बच्चों के दिमाग पर बहुत अच्छा असर नहीं डालता है। प्रोफेसर रसेल वाइनर ने कहा कि तंबाकू की तरह कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक्स को बच्चों को बेचने पर प्रतिबंध लगाना चाहिए ताकि मानसिक समस्या को एक महामारी बनने से रोका जा सके। 

 

Todays Beets: