Saturday, January 18, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक से बच्चों को रखें दूर, मोटापे के साथ मानसिक रूप से हो सकते हैं बीमार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक से बच्चों को रखें दूर, मोटापे के साथ मानसिक रूप से हो सकते हैं बीमार

नई दिल्ली। आज की इस तेज रफ्तार जिन्दगी में लोगों के पास सही तरीके से भोजन तक करने का समय नहीं है। ऐसे में वे एनर्जी ड्रिंक या हाई कैलोरी वाली ड्रिंक का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इसे पीने के बाद वे काफी फ्रेश महसूस करते हैं लेकिन उन्हें इस बात का पता नहीं होता वे अंजाने में मोटापे को न्योता दे रहे हैं। इसके साथ बच्चों में इसकी वजह से मानसिक बीमारी भी पैदा हो जाती है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे एनर्जी ड्रिंक बच्चों को बेचने पर प्रतिबंध लगाना सही रहेगा। 

गौरतलब है कि बच्चों और युवाओं को मोटापा और मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से बचाने के लिए उन्हें कैफीन वाले एनर्जी ड्रिंक से दूर रखने की जरूरत है। ऐसा कहा जाता है कि कैफीन को दुनिया भर में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाला साइकोएक्टिव ड्रग है। यह इंसान की शारीरिक सक्रियता को बढ़ा देता है। 

ये भी पढ़ें-फुलक्रम दूध पिएं और अपने दिल को रखेें सेहतमंद, शोध में हुआ खुलासा


यहां बता दें कि ब्रिटेन के रॉयल कॉलेज ऑफ पेडियाट्रिक्स एंड चाइल्ड हेल्थ (आरसीपीसीएच) के प्रोफेसर रसेल वाइनर का कहना है कि कैफीन बेचैनी को भी बढ़ाता है और नींद में रुकावट भी पैदा करता है। शोध में इस बात का भी पता चला है कि कैफीन बच्चों के दिमाग पर बहुत अच्छा असर नहीं डालता है। प्रोफेसर रसेल वाइनर ने कहा कि तंबाकू की तरह कैफीनयुक्त एनर्जी ड्रिंक्स को बच्चों को बेचने पर प्रतिबंध लगाना चाहिए ताकि मानसिक समस्या को एक महामारी बनने से रोका जा सके। 

 

Todays Beets: