Tuesday, March 28, 2023

Breaking News

   सोनिया गांधी दिल्ली के गंगाराम अस्पताल में भर्ती    ||   कर्नाटक हिजाब केस में SC ने तुरंत सुनवाई से इंकार किया    ||   मुंबईः राज ठाकरे के करीबी MNS नेता संदीप देशपांडे पर हमला, हिंदुजा अस्पताल में भर्ती    ||   म G-20 के लिए भारत के एजेंडे का समर्थन करते हैं- अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन     ||   J-K: NIA ने बारामूला में हिज्बुल आतंकी बासित रेशी की संपत्ति अटैच की    ||   उमेश पाल हत्याकांड में आरोपी मोहम्मद गुलाम के भाई राहिल हसन को बीजेपी ने किया निष्कासित    ||   राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस का स्तर प्रतिदिन गिरता जा रहा- अमित शाह    ||   तमिलनाडु में बिहार के लोगों के साथ मारपीट के मामले में जांच के लिए टीम भेजेगी नीतीश सरकार    ||   निक्की यादव मर्डर: आरोपी साहिल गहलोत को द्वारका कोर्ट में पेश करेगी दिल्ली पुलिस     ||   कोयंबटूर कार ब्लास्ट: तमिलनाडु, कर्नाटक और केरल में 60 ठिकानों पर NIA की छापेमारी     ||

विटामिन D के लिए धूप सेकते हैं तो जरा इसके सही समय और तरीके को भी जान लें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विटामिन D के लिए धूप सेकते हैं तो जरा इसके सही समय और तरीके को भी जान लें

न्यूज डेस्क । देखने में आया है कि शहरी जीवनशैली अपना चुके लोगों की स्वास्थ्य जांच में अमूमन अधिकांश लोगों में विटामिन डी की कमी पाई जाती है । हालांकि जहां कुछ लोग इस विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए गोलियां या बूस्टर डोज लेते हैं , वहीं कुछ सूरज की रोशनी से शरीर को मिलने वाले विटामिन डी को बेहतर मानते हैं । असल में हमारे शरीर को विटामिन डी की बहुत जरूरत होती है , जो हड्डियों और जोड़ों के लिए भी बहुत जरूरी है । गोलियों के जरिए इसकी कमी पूरी करने वालों से इतर , वह लोग जो सूरज की रोशनी से विटामीन डी की कमी को पूरा करते हैं , उनके लिए यह लेख अहम है । असल में ऐसे कई लोगों को सूरज की रोशनी लेने का सही तरीका और समय नहीं पता। तो चलिए आज हम आपकी इस समस्या को दूर कर देते हैं । 

देश के कई बड़े न्यूट्रिशन एक्सपर्ट बताते हैं कि विटामिन डी हमारे शरीर में कई प्रोटीन और एंजाइम के निर्माण में शामिल है, जो मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है और यह कई बीमारियों को भी रोकता है । ऐसे में सूरज की रोशनी के जरिए इसे लेने का तरीका भी सही होना चाहिए । इसके लिए ये एक्सपर्ट कुछ बातों का पालन करने की सलाह देते हैं । 

- डॉक्टरों का कहना है कि धूप लेने का सबसे अच्छा समय वह है , जब सूरज की किरणें बहुत कठोर न हों , क्योंकि तेज रोशनी के ज्यादा समय तक संपर्क में आने से भी त्वचा मिलोनेमा हो सकता है, जो एक तरह का घातक कैंसर हैं । 

- ध्यान रखें कि तेज रोशनी में आंखों पर सीधे किरणें न पढ़ें । 

- एक्सपर्ट का कहना है कि अगर किसी शख्स की त्वचा सांवली है तो वह ज्यादा से ज्यादा 30 मिनट ही धूप के सामने बैठें । जबकि गोरी त्वचा वालों के लिए 15 मिनट से अधिक धूप नहीं लेना चाहिए । 

- इसी क्रम में जो लोग अवसाद की स्थिति से गुजर रहे हैं , उनके लिए धूप सेकना एक अच्छी थेरेपी साबित होगी । धूप की किरणें जब शरीर पर पड़ती हैं तो उससे हमारे शरीर में सेरोटोनिन नाम के हार्मोन का प्रोडक्शन ज्यादा होता है, जिस वजह से आप खुश और शांत महसूस कर सकते हैं । 

- बच्चों को धूप में खेलना एक अच्छी थेरेपी हो सकती है , जिससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है । 

- नवजात शिशु को धूप में रखने से मेलाटोनिन बनने में काफी मदद मिलती है, मेलाटोनिन का लेवल बेबी की स्लिप पैटर्न को रेगुलेट करता है जो स्वस्थ रहने के लिए अच्छा है । 

- आमतौर पर कहा जाता है कि शरीर का 20% हिस्सा यानी बिना ढाके हाथ और पैरों से प्रतिदिन 15 मिनट धूप का सेवन करने से विटामिन डी अच्छी मात्रा में ली जा सकती है । 

- सर्दियों में हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए धूप में अच्छी मात्रा में कसरत करने से फायदा मिलता है । 

 


शरीर में विटामिन डी क्यों है जरूरी...

असल में हमारे शरीर में दांतो हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाए रखने के लिए जरूरी मात्रा में विटामिन डी शरीर को मिलनी चाहिए । शरीर में मौजूद कैल्शियम को हड्डियों तक पहुंचाने का काम इसी विटामिन डी के जिम्मे होता है ।  एक स्वस्थ व्यक्ति को 1 दिन में लगभग 37.5 से 50 एमसीजी विटामिन डी की जरूरत होती है ।  वहीं बढ़ते हुए बच्चों को रोजाना कम से कम 25 एमसीजी की आवश्यकता होती है । यह एक ऐसा पोषक तत्व है जो वसा में घुलता है ।  इसमें विटामिन डी1 डी2 और डी3 होते हैं. सूरज की रोशनी विटामिन डी का प्राथमिक स्रोत है ।  धूप के संपर्क में आते ही त्वचा विटामिन डी का खुद-ब-खुद निर्माण करने लगता है विटामिन डी हमारी इम्यून सिस्टम को भी मजबूत रखता है । 

बहरहाल , एक्सपर्ट का कहना है कि अगर किसी शख्स के शरीर में विटामिन डी की कमी है तो उसे कुछ इस तरह की परेशानियां हो सकती हैं। 

- हड्डियों का नुकसान

 - मसल लॉस

- बाल झड़ना

- मूड चेंज

- वेट बढ़ना

- सांस संबंधी शिकायत

 

 

Todays Beets: