Friday, October 30, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

शरीर की गंध से होगी मलेरिया की पहचान, खून देने की नहीं होगी जरूरत 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शरीर की गंध से होगी मलेरिया की पहचान, खून देने की नहीं होगी जरूरत 

नई दिल्ली। बदलते मौसम में बीमारियों ने भी दस्तक देना शुरू कर दिया है। इस मौसम में वायरल बुखार और मलेरिया की बीमारी ज्यादा होने की संभावना रहती है। ऐसे में मलेरिया की पहचान के लिए खून की जांच कराने के बाद ही इसकी पुष्टि हो पाती है लेकिन अब इंसानों के शरीर की गंध से भी मलेरिया का पता लगाया जा सकेगा। अमेरिका में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है। 

गौरतलब है कि बीमारी की जांच के लिए खून की जांच काफी जरूरी माना जाता है लेकिन कई बार लोग जांच के लिए खून देने से कतराते हैं या डरते हैं ऐसे लोगों के लिए काफी अच्छी खबर है। अब उन्हें बीमारी की पुष्टि के लिए खून देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। चूहों पर किए गए शोध में पता चला कि मलेरिया होने पर उसके शरीर के गंध में परिवर्तन हो गया। 


 ये भी पढ़ें - हमेशा तेज आवाज के संपर्क में रहने वाले हो जाएं सावधान, हो सकते हैं इन बीमारियों के शिकार 

    अमेरिका की पेन्सिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी की सहायक प्रोफेसर कॉनसूएलो ड मोरैस ने कहा कि चूहे के एक मॉडल पर किए गए हमारे अध्ययन में पता चला कि मलेरिया का संक्रमण होने पर चूहे के शरीर की गंध बदल गयी और वह मच्छरों को ज्यादा आकर्षित करने लगे, खासकर संक्रमण के उस दौर में जब मच्छरों का संक्रामक स्तर काफी ज्यादा था। उन्होंने कहा कि हमने संक्रमित चूहों के शरीर की गंध में लंबे समय में होने वाले बदलावों का भी पता लगाया। 

Todays Beets: