Saturday, January 18, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

शरीर की गंध से होगी मलेरिया की पहचान, खून देने की नहीं होगी जरूरत 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शरीर की गंध से होगी मलेरिया की पहचान, खून देने की नहीं होगी जरूरत 

नई दिल्ली। बदलते मौसम में बीमारियों ने भी दस्तक देना शुरू कर दिया है। इस मौसम में वायरल बुखार और मलेरिया की बीमारी ज्यादा होने की संभावना रहती है। ऐसे में मलेरिया की पहचान के लिए खून की जांच कराने के बाद ही इसकी पुष्टि हो पाती है लेकिन अब इंसानों के शरीर की गंध से भी मलेरिया का पता लगाया जा सकेगा। अमेरिका में हुए एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है। 

गौरतलब है कि बीमारी की जांच के लिए खून की जांच काफी जरूरी माना जाता है लेकिन कई बार लोग जांच के लिए खून देने से कतराते हैं या डरते हैं ऐसे लोगों के लिए काफी अच्छी खबर है। अब उन्हें बीमारी की पुष्टि के लिए खून देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। चूहों पर किए गए शोध में पता चला कि मलेरिया होने पर उसके शरीर के गंध में परिवर्तन हो गया। 


 ये भी पढ़ें - हमेशा तेज आवाज के संपर्क में रहने वाले हो जाएं सावधान, हो सकते हैं इन बीमारियों के शिकार 

    अमेरिका की पेन्सिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी की सहायक प्रोफेसर कॉनसूएलो ड मोरैस ने कहा कि चूहे के एक मॉडल पर किए गए हमारे अध्ययन में पता चला कि मलेरिया का संक्रमण होने पर चूहे के शरीर की गंध बदल गयी और वह मच्छरों को ज्यादा आकर्षित करने लगे, खासकर संक्रमण के उस दौर में जब मच्छरों का संक्रामक स्तर काफी ज्यादा था। उन्होंने कहा कि हमने संक्रमित चूहों के शरीर की गंध में लंबे समय में होने वाले बदलावों का भी पता लगाया। 

Todays Beets: