Saturday, January 18, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

बचपन  में तनाव झेलने वाले बच्चें बनते हैं , जल्दी मैच्योर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बचपन  में तनाव झेलने वाले बच्चें बनते हैं , जल्दी मैच्योर

नई दिल्ली । अकसर आप ने देखा होगा कि परेशानी और तनाव में लोगों का व्यवहार चिड़चिड़ा और गुस्सैल हो जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही परेशानी और तनाव बच्चे को जल्दी मैच्योर बनाता है। राडबौड विश्वविद्यालय में बच्चों पर हुए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है ।

यें भी पढ़ें-आपको आ रहा है गुस्सा ! कहीं आप भूखे तो नहीं , पढ़ें पूरी खबर 

शोधकर्ताओं ने अपने शोध में दो तरह के तनाव का अध्ययन किया । शोध में  इस बात का भी पता चला कि तनाव दो तरह के होते हैं। पहला तनाव वह है जो जीवन में घटित घटनाओं के कारण होता है और दूसरा वह होता है जो समाज में हो रही घटनाओं के कारण उत्पन्न होता है ।


यें भी पढ़ें-सेब के सिरके से दूर करें मधुमेह, जानें मोटापा और त्वचा संबंधी रोगों में कैसे मिलेगा फायदा

बता दें कि शोधकर्ताओं ने 5 वर्ष के बच्चों से लेकर 17 वर्ष के किशोरों के वर्ग पर किया जिसमें पाया गया है कि तनाव का सीधा प्रभाव दिमाग के उस भाग  पर पड़ता है जो दिमाग को मैच्योर करने से सीधा जुड़ा होता है। दिमाग का ये भाग समाजिक और भावनात्मक प्रतिक्रिया को व्यक्त करने में काम आता हैं। इसी के साथ शोध में इस बात को भी पता चला हैं कि तनाव न होने से बच्चे में परिपक्वता की क्रिया भी धीमी होती है और ज्यादा तनाव में कई बार असामाजिक तत्व के लक्षण भी दिखने लगते है।   

Todays Beets: