Tuesday, November 24, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

बचपन  में तनाव झेलने वाले बच्चें बनते हैं , जल्दी मैच्योर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बचपन  में तनाव झेलने वाले बच्चें बनते हैं , जल्दी मैच्योर

नई दिल्ली । अकसर आप ने देखा होगा कि परेशानी और तनाव में लोगों का व्यवहार चिड़चिड़ा और गुस्सैल हो जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही परेशानी और तनाव बच्चे को जल्दी मैच्योर बनाता है। राडबौड विश्वविद्यालय में बच्चों पर हुए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है ।

यें भी पढ़ें-आपको आ रहा है गुस्सा ! कहीं आप भूखे तो नहीं , पढ़ें पूरी खबर 

शोधकर्ताओं ने अपने शोध में दो तरह के तनाव का अध्ययन किया । शोध में  इस बात का भी पता चला कि तनाव दो तरह के होते हैं। पहला तनाव वह है जो जीवन में घटित घटनाओं के कारण होता है और दूसरा वह होता है जो समाज में हो रही घटनाओं के कारण उत्पन्न होता है ।


यें भी पढ़ें-सेब के सिरके से दूर करें मधुमेह, जानें मोटापा और त्वचा संबंधी रोगों में कैसे मिलेगा फायदा

बता दें कि शोधकर्ताओं ने 5 वर्ष के बच्चों से लेकर 17 वर्ष के किशोरों के वर्ग पर किया जिसमें पाया गया है कि तनाव का सीधा प्रभाव दिमाग के उस भाग  पर पड़ता है जो दिमाग को मैच्योर करने से सीधा जुड़ा होता है। दिमाग का ये भाग समाजिक और भावनात्मक प्रतिक्रिया को व्यक्त करने में काम आता हैं। इसी के साथ शोध में इस बात को भी पता चला हैं कि तनाव न होने से बच्चे में परिपक्वता की क्रिया भी धीमी होती है और ज्यादा तनाव में कई बार असामाजिक तत्व के लक्षण भी दिखने लगते है।   

Todays Beets: