Monday, August 26, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

 मोटापा कम करने के लिए न कराएं सर्जरी, हड्डियां हो सकती हैं कमजोर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
 मोटापा कम करने के लिए न कराएं सर्जरी, हड्डियां हो सकती हैं कमजोर

नई दिल्ली। मोटापे को कम करने के लिए लोग सर्जरी कराने से भी पीछे नहीं हटते हैं। एक अध्ययन में दावा किया गया है कि वजन घटाने के लिए कराई जाने वाली सर्जरी हड्डियों को कमजोर कर सकती हैं और इससे फ्रैक्चर होने का खतरा बढ़ जाता है। जर्नल जेबीएमआर प्लस में प्रकाशित एक शोध में कहा गया है कि वजन घटाने के लिए कराई जाने वाली सर्जरी के बाद हड्डियों की संरचना में बदलाव होने लगता है। यह सिलसिला सर्जरी के बाद वजन में स्थिरता आने के बावजूद बंद नहीं होता। गौरतलब है कि सैन फ्रांसिस्को स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की विशेषज्ञ एनी शैफर ने बताया कि चर्बी कम करने के लिए आॅपरेशन कराने के बाद हड्डियों में वसा की मात्रा कम हो जाती है जिससे उसके कमजोर होने की संभावना बढ़ जाती है।      

ये भी पढ़ें - यात्रा के दौरान आती हैं उल्टियां, इन उपायों को अपनाएं, मिलेगा आराम


ज्यादातर अध्ययनों में रौक्स एन वाई गैस्ट्रिक बाइपास सर्जरी के प्रभावों का अध्ययन किया गया है। दुनिया भर में वजन घटाने के लिए यह सर्जरी की प्राथमिकता रही है लेकिन हाल ही में इसकी जगह स्लीव गैस्ट्रेक्टोमी ने ले ली है। फिलहाल हड्डियों पर इस नवीनतम सर्जरी के प्रभावों का पता नहीं चल पाया है।

Todays Beets: