Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

नहीं रहे अभिनेता गिरिश कनार्ड , बेंगलुरू में मल्टीपल ऑर्गेन फेल होने की वजह से निधन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नहीं रहे अभिनेता गिरिश कनार्ड , बेंगलुरू में मल्टीपल ऑर्गेन फेल होने की वजह से निधन

बेंगलुरु । कर्नाटक के जाने माने नाटककार, रंगकर्मी, एक्टर, निर्देशक और स्क्रीन राइटर ग‍िरीश  कर्नाड  का सोमवार को 81 वर्ष की आयु में निधन हो गया । लंबे समय से बीमार चल रहे कर्नाड का मल्टीपल ऑर्गेन फेल होने की वजह से निधन हुआ । उनके निधन से साहित्य और सिनेमा जगत में शोक की लहर है। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर दुख प्रकट किया है । उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'गिरीश कर्नाड को सभी माध्यमों में उनके बहुमुखी अभिनय के लिए याद किया जाएगा। उनके काम आने वाले वर्षों में लोकप्रिय होते रहेंगे। उनके निधन से दुखी हूं। उनकी आत्मा को शांति मिले।'

बता दें कि कन्नड़ फिल्म संस्कार(1970) से अपनी एक्टिंग और स्क्रीन राइटिंग की शुरुआत करने वाले गिरिश कर्नाड ने अपने करीब 50 साल के करियर में कई प्रतिष्ठित अवार्ड जीते ।  उनकी पहली ही फिल्म ने कन्नड़ सिनेमा का पहले प्रेजिडेंट गोल्डन लोटस अवार्ड जीता था । बॉलीवुड में उनकी पहली फिल्म 1974 में आयी जादू का शंख थी । इतना ही नहीं पिछले कुछ समय में उन्होंने सलमान खान की फिल्म एक था टाइगर और टाइगर ज़िंदा में देखा गया था ।  

हालांकि बड़े पर्द पर काम करने से पहले 1960 के दशक में लोग उन्हें उनके नाटकों को लेकर जानने लगे थे । कर्नाड ने अंग्रेजी के भी कई प्रतिष्ठित नाटकों का अनुवाद किया । कर्नाड के भी नाटक कई भारतीय भाषाओं में अनुदित हुए ।  कर्नाड ने हिंदी और कन्नड़ सिनेमा में अभिनेता, निर्देशक और स्क्रीन राइटर के तौर पर काम किया। उन्हें पद्मश्री और पद्म भूषण का सम्मान मिला । कर्नाड को चार फिल्म फेयर अवॉर्ड भी मिले । ग‍िरीश कर्नाड को 1978 में आई फिल्म भूमिका के लिए नेशनल अवॉर्ड  तो 1998 में साह‍ित्य के प्रत‍िष्ठ‍ित ज्ञानपीठ अवॉर्ड से सम्मानित किया गया थ ।


 

 

Todays Beets: