Sunday, July 21, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

मशहूर भजन गायक विनोद अग्रवाल नहीं रहे, मथुरा के अस्पताल में ली अंतिम सांस

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मशहूर भजन गायक विनोद अग्रवाल नहीं रहे, मथुरा के अस्पताल में ली अंतिम सांस

नई दिल्ली। मशहूर भजन गायक विनोद अग्रवाल का मंगलवार की सुबह देहांत हो गया। बताया जा रहा है कि सीने में दर्द की शिकायत के बाद उन्हें मथुरा के नयति अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में चिकित्सकों ने बताया ने उनके अंगों ने एक-एक कर काम करना बंद कर दिया जिसके बाद उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। विनोद अग्रवाल ने आज सुबह 4 बजे अंतिम सांस ली। दिल्ली में पैदा हुए अग्रवाल काफी छोटी उम्र में ही मुंबई चले गए थे।

गौरतलब है कि परिवार वालों का कहना है कि वृंदावन स्थित आवास पर रविवार को उनकी अचानक तबीयत बिगड़ गई थी। रविवार की सुबह सीने में दर्द की शिकायत पर उन्हें नयति अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके बाद से उनका इलाज वहीं पर चल रहा था। विनोद अग्रवाल के देश-विदेश में 1500 से अधिक लाइव कार्यक्रम हो चुके हैं। उन्होंने ब्रिटेन, इटली, सिंगापुर, स्विटजरलैंड, फ्रांस, कनाडा, जर्मनी, आयरलैंड, दुबई समेत कई देशों में सफल कार्यक्रम किए।


ये भी पढ़ें - अनुपम खेर ने एफटीआईआई का अध्यक्ष पद छोड़ा, व्यस्तताओं का दिया हवाला

यहां बता दें कि विनोद अग्रवाल का जन्म 6 जून 1955 को दिल्ली मंे हुआ था। माता-पिता की कृष्ण और राधा में अटूट विश्वास का ही नतीजा था कि विनोद अग्रवाल ने भी बेहतरीन भजन गाए। 1962 में माता-पिता और भाई-बहनों के साथ वो दिल्ली से मुंबई चले गए। महज 12 वर्ष की आयु में उन्होंने भजन गायन और हार्मोनियम बजाना सीख लिया। उनके भजन देश में ही नहीं विदेशों में भी सुने  जाते हैं। 

Todays Beets: