Wednesday, October 28, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

ओवैसी ने भागवत पर कसा तंज- हमें न बताएं हम भारत में कितने खुश हैं , उनकी तो सोच ही हमें दूसरी श्रेणी का नागरिक बनाना है

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ओवैसी ने भागवत पर कसा तंज- हमें न बताएं हम भारत में कितने खुश हैं , उनकी तो सोच ही हमें दूसरी श्रेणी का नागरिक बनाना है

हैदराबाद । अपने बयानों को लेकर हमेशा सुर्खियां बंटोरने वाले AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने एक बार फिर से आरएसएस प्रुमख मोहन भागवत पर गंभीर आरोप लगाए हैं । औवेसी ने भागवत के उस बयान पर आपत्ति जताई, जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत का मुसलमान दुनिया में सबसे संतुष्ट है । उन्होंने कहा - संघ प्रमुख हमें न बताएं कि हम कितने खुश हैं। जबकि उनकी विचारधारा तो भारत के मुसलमानों को दूसरी श्रेणी का नागनिक बनाना चाहते हैं । ओवैसी ने ट्वीट करके लिखा - खुशी का पैमाना क्या है? यही कि भागवत नाम का एक आदमी हमेशा हमें बताता रहा कि हमें बहुसंख्यकों के प्रति कितना आभारी होना चाहिए? 

गृहमंत्रालय की राज्यों को एडवाजरी , महिला शोषण की शिकायतों पर FIR दर्ज करवा अनिवार्य , लापरवाह अफसर नपेंगे

बता दें कि संघ प्रमुख मोहन भागवत ने एक पत्रिका को दिए इंटरव्यू में कहा था कि दुनिया में अगर मुस्लिम किसी देश में सबसे ज्यादा संतुष्ट हैं तो वह भारत है । उन्होंने कहा कि क्या दुनिया में एक भी उदाहरण ऐसा है जहां किसी देश की जनता पर शासन करने वाला कोई विदेशी धर्म अब भी वजूद में हो । इसके बाद इस सवाल का खुद ही जवाब देते हुए उन्होंने कहा था - कहीं नहीं, केवल भारत में ही ऐसा है । उन्होंने कहा था कि ऐसी कोई शर्त नहीं है कि भारत में रहने के लिए किसी को हिन्दुओं की श्रेष्ठता को स्वीकार करना ही होगा, और संविधान भी ऐसा नहीं कहता है । 

अमेरिकी NSA ब्रायन बोले - भारत के साथ चीन का सीमा विवाद अब बातचीत से खत्म नहीं होगा


उनके इस बयान पर अब एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कड़ी टिप्पणी की है । उन्होंने कहा - हमारी खुशी का पैमाना यह है कि क्या संविधान के तहत हमारी मर्यादा का सम्मान किया जाता है या नहीं, अब हमें ये नहीं बताइए कि हम कितने खुश हैं, जबकि आपकी विचारधारा चाहती है कि मुसलमानों को द्वितीय श्रेणी का नागरिक बनाया जाए । 

ओवैसी बोले - मैं आपको ऐसा कहते हुए सुनना नहीं चाहता हूं कि हमें अपने ही होमलैंड में रहने के लिए बहुसंख्यकों के प्रति कृतज्ञता जतानी चाहिए । हमें बहुसंख्यकों की सह्रदयता नहीं चाहिए, हम दुनिया के मुसलमानों के साथ खुश रहने की प्रतिस्पर्द्धा में नहीं हैं, हम सिर्फ अपना मौलिक अधिकार चाहते हैं । 

हाथरस कांड - परिवार संग फर्जी रिश्तेदार बनकर रही एक संदिग्ध नक्सली महिला फरार! , परिजनों को भड़काने के आरोप

Todays Beets: