Friday, September 24, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

तालिबान में पड़ी फूट, सरकार गठन से पहले मुल्ला बिरादर – हक्कानी नेटवर्क में तनातनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
तालिबान में पड़ी फूट, सरकार गठन से पहले मुल्ला बिरादर – हक्कानी नेटवर्क में तनातनी

नई दिल्ली । अफगानिस्तान की तालिबान सरकार जहां पंजशीर में भी अपने कब्जे का दावा करते हुए अब पूरे देश में अपने परचम लहराने की बात कर रहा है। वहीं सरकार गठन से पहले ही वहां तालिबानी नेताओं के बीच फूट पड़ गई है । खबरें आ रही हैं कि अफगानिस्तान में मुल्ला बिरादर की अगुवाई में सरकार गठन के मुद्दे को लेकर हक्कानी नेटवर्क और तालिबानी नेताओं के बीच गतिरोध हो गया है । इस तनातनी का ही कारण रहा कि पहले शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद सरकार गठन का ऐलान करने वाले तालिबान ने पहले शनिवार और फिर अगले 2-4 दिनों तक अपने सरकार गठन के कार्यक्रम को टाल दिया है । खबरें हैं कि सरकार में मुल्ला बिरादर की अगुवाई में जिन नेताओं को अहम पद दिए जा रहे हैं , उसे लेकर हक्कानी नेटवर्क और तालिबानी नेताओं में सहमति नहीं बन पा रही है।

विदित हो कि खुद तालिबान ने इस बात को माना है कि हक्कानी नेटवर्क और तालिबान इस्लामिक अमीरात के बीच सत्ता के बंटवारे को लेकर मतभेद पैदा हो गए हैं । मिली खबरों के अनुसार , मुल्ला बिरादर की अगुवाली वाले तालिबानी नेता चाहते हैं कि नई सरकार के गठन में सभी तबकों के लोगों को प्रतिनिधित्व दिया जाए, इससे गतिरोध पैदा नहीं होगा , जबकि हक्कानी नेटवर्क किसी भी दूसरे दल को सरकार का हिस्सा बनाने के पक्ष में नहीं है ।

यही कारण है कि दोनों के बीच तनातनी हो गई है । मुल्ला बिरादर के साथ खड़े तालिबानी नेता और हक्कानी नेटवर्क के नेताओं में से कोई भी अपनी बात से पीछे हटने को तैयार नहीं है । हालांकि कुछ नेता बीच का रास्ता निकालने की जुगत लगा रहे हैं ,जिसके चलते सरकार गठन का मामला टल रहा है ।

खबरें तो यह भी हैं कि इस गतिरोध को खत्म करने के लिए तालिबान ने पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के चीफ को बुलाया है। हक्कानी नेटवर्क भी इस बात पर सहमत हो गया है कि आईएसआई इस गतिरोध को कम करे । ऐसे में आईएसआई चीफ काबुल पहुंच गए हैं और तालिबानी नेता – हक्कानी नेटवर्क के नेताओं के साथ बैठकें कर रहे हैं।


 

 

 

 

Todays Beets: