Friday, May 20, 2022

Breaking News

    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||   आंध्र प्रदेश: गुड़ी पड़वा के जश्न के दौरान भक्तों के बीच मंदिर में मारपीट, दुकानों में तोड़फोड़-आगजनी     ||   दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके जाने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचीं राणा अयूब     ||   सोनिया गांधी ने बोला केंद्र पर हमला, लगाया MGNREGA का बजट कम करने का आरोप     ||   केजरीवाल के आवास पर हमला: दिल्ली HC पहुंची AAP, एसआईटी गठन की मांग की     ||   राज्यसभा जा सकते हैं शिवपाल यादव! दो दिन से जारी है बीजेपी मुलाकातों का दौर     ||   यूपी हज समिति के अध्यक्ष बने मोहसिन रजा, राज्यमंत्री का भी दर्जा मिला     ||   दिल्ली: नई शराब नीति के विरोध में BJP, पटेल नगर समेत 14 जगहों पर शराब की दुकानें की सील     ||

LIVE - जहांगीरपुरी में MCD का ''ऑपरेशन बुलडोजर'' , मंदिर- मस्जिद के बाहर से अतिक्रमण हटाया , सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE - जहांगीरपुरी में MCD का

नई दिल्ली । जहांगीरपुरी हिंसा के मामले में जहां दिल्ली पुलिस पत्थरबाजों और हिंसा की साजिश करने वालों को दबोच रही है , वहीं दिल्ली नगर निगम ने भी आज हंगामे वाले इस जगह पर अपना ''ऑपरेशन बुलडोजर'' चलाया । भारी पुलिस बल के साथ जहांगीरपुरी में पहुंची एमसीडी के अफसरों ने इस दौरान मस्जिद और मंदिर दोनों के ही बाहर अवैध निर्माण को ढहा दिया । हालांकि कुछ लोगों ने इसे एक धर्म विशेष के खिलाफ कार्रवाई करार दिया , लेकिन एमसीडी के अफसरों ने इस किसी सियासत से न जोड़ने की बात कहते हुए इसे अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई करार दिया । हालांकि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के दखल के बीच बुलडोजर की कार्यवाही को रोका गया । सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक स्थिति को यथावत रखने का आदेश दिया है , इस मामले में कल सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी । 

मस्जिद के बाहर 12 से ज्यादा अवैध निर्माण तोड़े गए

बुधवार सुबह ही जहांगीरपुरी इलाके में पहुंचे एमसीडी अफसर अपने साथ भारी सुरक्षा बल लेकर आए थे । इस दौरान क्या मस्जिद और क्या मंदिर , एमसीडी का बुलडोजर दोनों के ही बाहर मौजूद अवैध निर्माण पर चला । एमसीडी के अफसरों ने जहांगीरपुरी की उस मस्जिद के बाहर अवैध निर्माण पर भी कड़ी कार्रवाई की , जिसकी छत से पिछले दिनों रामनवमी वाले दिन जुलूस पर पथराव हुआ था । एमसीडी ने मस्जिद के बाहर करीब 12 से ज्यादा ठिकानों पर बुलडोजर चलाया । वहीं मंदिर के बाहर भी कुछ अवैध निर्माण को तोड़ा गया , लेकिन मंदिर के आसपास मौजूद अन्य अतिक्रमण को तोड़ा जाता , इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस पूरी कार्रवाई पर रोक लगाने का आदेश जारी कर दिया । 

बिना नोटिस तोड़फोड़ के आरोप

इस दौरान , जिन लोगों के अवैध अतिक्रमण को हटाया गया , उन्होंने प्रशासन पर बिना नोटिस के कार्रवाई किए जाने के आरोप लगाए । अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही को अवैध बताते हुए जहांगीरपुरी के कुछ निवासियों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था । इसे सुनते हुए चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली बेंच ने मामले में यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया । कोर्ट ने कहा है कि वह कल इस मामले की सुनवाई करेगा ।

निगम ने कल ही कार्रवाई की घोषणा कर दी थी

बता दें कि उत्तरी एमसीडी ने अचानक कल यानी 19 अप्रैल को जहांगीरपुरी में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करने की घोषणा कर दी । यह कार्रवाई आज यानी 20 अप्रैल को दोपहर 2 बजे से होनी थी , लेकिन एमसीडी की टीम सुबह की 9 बुलडोजरों के साथ जहागीरपुरी पहुंची गई । वहीं इस कार्रवाई को रुकवाने के लिए जहांगीरपुरी के कुछ निवासी सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए । याचिकाकर्ताओं की तरफ से सुबह 11 बजे वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे और प्रशांत भूषण ने चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली बेंच के सामने मामला रखा । दवे ने कहा कि जहांगीरपुरी में बिल्कुल अवैध कार्रवाई हो रही है. नगर निगम एक्ट के मुताबिक इस तरह की कार्रवाई से पहले 5 से 15 दिन का नोटिस दिया जाना होता है , लेकिन बिना किसी नोटिस के नगर निगम के बुलडोजर जहांगीरपुरी पहुंच गए। दवे ने आगे कहा कि यह कार्रवाई दोपहर में होनी थी , लेकिन हमारी याचिका की जानकारी मिलने के बाद सुबह 9 बजे से ही कार्रवाई शुरू कर दी गई है. , इलाके में बुलडोजर लोगों के घरों और दुकान को तोड़ रहे हैं । 

कोर्ट में कल होगी सुनवाई


इस मामले में सुनवाई के बाद चीफ जस्टिस ने कल यानी 21 अप्रैल को इस मामले की सुनवाई का भरोसा दिया है । इस पर दवे और प्रशांत भूषण ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट को मामले में यथास्थिति बनाए रखने का आदेश देना चाहिए, क्योंकि नगर निगम का दस्ता लगातार कार्रवाई में जुटा है । चीफ जस्टिस ने इस आग्रह को मानते हुए मामले में यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दे दिया . इस दौरान जमीयत उलेमा-ए-हिंद की तरफ से कोर्ट में मौजूद वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि इस तरह की कार्यवाही पूरे देश में चल रही है । इसे रुकवाने के लिए जमीयत ने एक याचिका दाखिल की है । इसे भी कल जहांगीरपुरी के मामले के साथ सुन लिया जाए. कोर्ट ने इस अनुरोध को भी स्वीकार कर लिया ।

कुछ खास बातें... 

- अवैध निर्माण पर बुलडोजर चलने से पहले सीआरपीएफ, दिल्ली पुलिस और फोर्स ने इलाके में फ्लैग मार्च शुरू किया । 

- कार्रवाई शुरू होने से पहले मौके पर नॉर्थ एमसीडी के मेयर राजा इकबाल सिंह और आयुक्त संजय गोयल भी पहुंच गए और तैयारियों का जायजा लिया । लोगों ने किया हंगामा

सुबह कार्रवाई के दौरान किसी ने भी एमसीडी के एक्शन पर कोई आपत्ति नहीं जताई, लेकिन जब उन्हें पता चला कि सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल कार्रवाई रोकने और यथास्थिति बनाए रखने को कहा है, लेकिन फिर भी एमसीडी तोड़फोड़ कर रही है तो लोग हंगामा करने लगे । लोगों ने इस तरह सुप्रीम कोर्ट के आदेश को दरकिनार करने पर आपत्ति दर्ज कराई । 

राहुल गांधी की भी हुई एंट्री

इस मामले में कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने भी दोपहर बाद एंट्री मारी । जब सुप्रीम कोर्ट के रोक के आदेश के बाद भी जहांगीरपुरी में बुलडोजर चल रहा था तो राहुल गांधी ने ट्वीट पर लिखा, 'मोदी जी, महंगाई का दौर चल रहा है । इस दौरान बिजली कटौती से छोटे उद्योग धराशायी हो जाएंगे,  जिससे भविष्य में नौकरियों का और नुकसान होगा । इसलिए नफरत के बुलडोजर बंद करो और बिजली संयंत्रों को चालू करो। 

Todays Beets: