Tuesday, October 26, 2021

Breaking News

   52वां इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया 20 से 28 नवंबर तक गोवा में होगा     ||   पीएम मोदी की अपील- मेड इन इंडिया सामान खरीदने पर जोर दें, इसके लिए सब प्रयास करें     ||   भारत में 100 करोड़ वैक्सीनेशन पर बिल गेट्स ने दी पीएम मोदी को बधाई     ||   सेना की 39 महिला अफसरों की बड़ी जीत, मिलेगा स्थायी कमीशन; SC ने दिया आदेश     ||   बिहार में महागठबंधन टूटा, कांग्रेस का ऐलान 2024 के आम चुनाव में सभी 40 सीटों पर लड़ेगी पार्टी     ||   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||

मेरठ से गिरफ्तार मौलाना सिद्दीकी धर्मांतरण के लिए पाकिस्तान से फंडिंग के साथ पा रहे थे तकनीकी मदद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मेरठ से गिरफ्तार मौलाना सिद्दीकी धर्मांतरण के लिए पाकिस्तान से फंडिंग के साथ पा रहे थे तकनीकी मदद

मेरठ । उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण के रैकेट में पिछले दिनों मूल रूप से मुजफ्फरनगर निवासी मौलाना कलीम सिद्दीकी (Maulana Kaleem Siddiqui) को मेरठ से गिरफ्तार किया गया । उससे पूछताछ में कई खुलासे हुए हैं । जांच एजेंसी से जुड़े एक सूत्र का कहना है कि अवैध धर्मांतरण के लिए फंडिंग का काम कलाम सिद्दीकी भी करता था । उसने अब तक हजारों लोगों का धर्म परिवर्तन करवाया है , जिसके लिए उसने अब तक करोड़ों रुपयों की फंडिंग का काम भी संभाला है । हालांकि अब जांच में यह सामने आ गया है कि यह पैसा पाकिस्तान कनेक्शन के तहत उसे मिलता था । हर हिंदू को मुसलमान बनाने की सोच लिए यह मौलाना पाकिस्तान से टेक्निकल सपोर्ट भी पा रहा था । 

हवाला के जरिए विदेशी फंडिंग के आरोप

विदित हो कि यूपी एटीएस ने गत 20 जून को पकड़े गए उमर गौतम से पूछताछ की थी , जिसमें कलीम सिद्दीकी का नाम सामने आया था । इसके बाद अवैध धर्मांतरण केस के सिलसिले में मौलाना कलीम सिद्दीकी को मेरठ के लिसाडीगेट थाना इलाके से गिरफ्तार किया गया था । जमीयत-ए-वलीउल्लाह और ग्लोबल पीस सेंटर के प्रेसिडेंट कलीम सिद्दीकी पर अवैध धर्मांतरण रैकेट चलाने और हवाला से विदेशी फंडिंग पाने के संगीन आरोप हैं । खुलासा हुआ है कि मौलाना ने हवाला के जरिए 3 करोड़ रुपये की अवैध फंडिंग पाई , जिसमें डेढ़ करोड़ तो बहरीन से आए थे । 

मेरठ से बीएससी पास है सिद्दीकी

मौलाना कलीम सिद्दीकी बोलने में बहुत माहिर है । बताया जा रहा है कि वह मेरठ के कॉलेज से बीएससी किए हुए हैं । अभी तक की जांच में सामने आया है कि 65 वर्ष के करीब का यह मौलाना हर हिंदुस्तानी को मुसलमान बनाने की हसरत रखता था । हालांकि उसने अपना लक्ष्य इस धरती को मुसलमानों की धरती बनाने का रखा । यह भी कहा जा रहा है कि उसके नेटवर्क ने अब तक भारत में 5 लाख से ज्यादा अवैध धर्मांतरण कराए हैं । 


मौलाना के कई वीडियो इंटरनेट पर

मौलाना कलीम सिद्दीकी के दर्जनों वीडियो ऐसे मिल जाएंगे, जिसमें ये अपनी मिठी जुबान से हिंदुओं को मुसलमान बनाने की जिहादी कोशिश करते दिखेंगे । हालांकि इनके गुनाहों की कुंडली तब खुलनी शुरू हुई जब दवाह सेंटर वाले उमर गौतम ने इनका कच्चा चिट्ठा खोला । गौतम ने ही बताया था कि अवैध धर्मांतरण के लिए फंडिंग का काम कलाम सिद्दीकी भी करता है । 

दिव्यांगों, गरीब-लाचारों, लड़कियों का अवैध धर्मांतरण

खुलासा हुआ है कि कलीम सिद्दीकी दिव्यांगों, गरीब-लाचारों, लड़कियों का अवैध धर्मांतरण कराने वाले रैकेट का हिस्सा है । इस रैकेट को काम करने के लिए 57 करोड़ रुपये से अधिक की अवैध फंडिंग हुई है । हालांकि यह इस पैसे का इस्तेमाल कैसे करता था इसका अभी हिसाब किताब खंगाला जा रहा है । इस मामले में मौलाना के बाद 10 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है । इनमें से 6 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल हो चुकी है । 

Todays Beets: