Sunday, February 5, 2023

Breaking News

   Supreme Court: कलेजियम की सिफारिशों को रोके रखना लोकतंत्र के लिए घातक: जस्टिस नरीमन     ||   Ghaziabad: NGT के फैसले पर नगर निगम को SC की फटकार, 1 करोड़ जमा कराने की शर्त पर वूसली कार्रवाई से राहत     ||   दिल्लीः फ्लाइट में स्पाइसजेट की क्रू के साथ अभद्रता के मामले में एक्शन, आरोपी गिरफ्तार     ||   मोरबी ब्रिज हादसा: ओरेवा ग्रुप के मालिक जयसुख पटेल के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी     ||   भारत जोड़ो यात्राः राहुल गांधी बोले- हम चाहते हैं कि बहाल हो जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा     ||   MP में नहीं माने बजरंग दल और हिंदू जागरण मंच, 'पठान' की रिलीज के विरोध का किया ऐलान     ||   समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्या पर लखनऊ में FIR     ||   बजरंग पुनिया बोले - Oversight Committee बनाने से पहले हम से कोई परामर्श नहीं किया गया     ||   यमुना एक्सप्रेस-वे पर कोहरे की वजह से 15 दिसंबर से स्पीड लिमिट कम कर दी जाएगी     ||   भारत की यात्रा करने वाले ब्रिटेन के नागरिकों के लिए ई-वीजा सुविधा फिर से शुरू     ||

सुप्रीम कोर्ट बोली -  जनप्रतिनिधियों की अभिव्यक्ति की आजादी पर अतिरिक्त पाबंदी की जरूरत नहीं, बयान के लिए वो ही जिम्मेदार 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट बोली -  जनप्रतिनिधियों की अभिव्यक्ति की आजादी पर अतिरिक्त पाबंदी की जरूरत नहीं, बयान के लिए वो ही जिम्मेदार 

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसला सुनाते हुए कहा कि आज के समय में सार्वजनिक पद पर बैठे लोगों के कुछ भी बोलने (freedom of speech) पर संविधान के अनुच्छेद 19(2) के तहत निर्धारित प्रतिबंधों के अलावा कोई भी अतिरिक्त प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता । कोर्ट ने कहा कि किसी जनप्रतिनिधि के  भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार के तहत नागरिक पर कोई अतिरिक्त प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता है । कोर्ट ने कहा कि किसी मंत्री द्वारा दिए गए बयान के लिए सरकार को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है । अपने बयान के लिए वह खुद जिम्मेदार होंगे । 

न्यायमूर्ति बीवी नागरत्‍ना (Justice BV Nagarathna) ने एक मामले पर सुनवाई करते हुए कहा कि हमारे जैसे देश के लिए जो एक संसदीय लोकतंत्र है, एक स्वस्थ लोकतंत्र सुनिश्चित करने के लिए बोलने की स्वतंत्रता एक आवश्यक अधिकार है । साथ ही देश में नागरिकों को अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में जानकारी दी जाती है । इस मामले में पांच सदस्यीय संविधान पीठ का कहना है कि किसी भी बयान के लिए मंत्री खुद जिम्मेदार हैं । 


वह बोले - - संवैधानिक पदो पर बैठे लोगों को खुद आत्म निरीक्षण की जरूरत है कि वो जनता को क्या संदेश दे रहे हैं । यह पार्टी पर निर्भर करता है कि वह अपने मंत्रियों द्वारा दिए गए भाषणों को नियंत्रित करें जो एक आचार संहिता बनाकर किया जा सकता है । कोई भी नागरिक जो इस तरह के दिए गए भाषणों या सार्वजनिक पदों पर बैठे लोगों द्वारा अभद्र भाषा के उपयोग से आहत महसूस करता है कोर्ट जा सकता है । 

न्यायमूर्ति बीवी नागरत्न, न्यायमूर्ति रामासुब्रमण्यम से इस बात पर सहमत हैं कि अनुच्छेद 19(2) के तहत आधारों के अलावा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अधिक प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता । जबकि जस्टिस नागरत्न ने आगे कहा कि अनुच्छेद 19(1)(ए) और 21 के तहत मौलिक अधिकार संवैधानिक अदालतों में क्षैतिज रूप से लागू नहीं हो सकते हैं , लेकिन आम कानूनी उपाय उपलब्ध हैं ।

Todays Beets: