Thursday, November 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

हाथरस कांड - आखिरकार SIT ने सरकार को सौंपी रिपोर्ट , प्रशासन की कई खामियों को किया उजागर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाथरस कांड - आखिरकार SIT ने सरकार को सौंपी रिपोर्ट , प्रशासन की कई खामियों को किया उजागर

लखनऊ । यूपी की सिसायत में उबाल लाने वाले हाथरस के कथित गैंगरेप कांड में आखिरकार SIT ने अपनी रिपोर्ट योगी सरकार को सौंप दी है । इस रिपोर्ट को अब इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान पेश किया जा सकता है । सोमवार यानी अब से थोड़ी देर में हाईकोर्ट में इस कांड को लेकर सुनवाई होनी है, जहां यूपी सरकार को अपना पक्ष रखेगी । सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार , इस मामले में प्रशासन की ओर से भी कुछ लापरवाही बरते जाने की बात सामने आ रही है , जिसके चलते जिलाधिकारी के खिलाफ कार्यवाही हो सकती है । 

बता दें कि गत सितंबर में हाथसर के एक गांव के चार युवकों पर अपने ही गांव की एक युवती के साथ खेतों में गैंगरेप के बाद उसकी हत्या करने की साजिश का मामला दर्ज हुआ था । इस मामले में युवती की दिल्ली में इलाज के दौरान मौत हो गई , लेकिन मामला तब भड़क गया जब पुलिस प्रशासन ने आनन फानन में युवती का अंतिम संस्कार कर दिया । 


परिजनों ने आरोप लगाया कि अंतिम संस्कार से पहले उन्हें कोई कर्मकांड नहीं करने दिया गया न ही अंतिम दर्शन करने दिए गए और रात के समय अंतिम संस्कार कर दिया । इसके बाद विपक्षी दलों ने इस मुद्दे पर राज्य की योगी सरकार को घेरने की साजिश की ।बाद में इस मामले की जांच सरकार ने एसआईटी को दी थी, उनकी जांच रिपोर्ट आने से पहले ही सीबीआई को इस मामले की जांच सौंप दी गई है । असल में हाथरस कांड पर गृह सचिव भगवान स्वरूप की अगुवाई में SIT बनाई गई थी, जिसने हर पहलू की जांच की । शुरुआत में SIT को जांच के लिए सात दिन का वक्त मिला था, लेकिन उसके बाद दस दिन अधिक दिए गए । अब जाकर SIT ने अपनी जांच पूरी की है और सरकार को रिपोर्ट सौंपी है । 

बहरहाल, हाथरस कांड पर सोमवार को ही इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में सुनवाई होनी है । इस दौरान गृह सचिव तरुण गाबा, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार की ओर से हलफनामा दाखिल किया जाना है ।    

Todays Beets: