Friday, September 17, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

सुप्रीमकोर्ट से सुपरटेक को बड़ा झटका , आदेश में कहा- तीन महीने में गिराने होंगे टावर 16 - 17

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीमकोर्ट से सुपरटेक को बड़ा झटका , आदेश में कहा- तीन महीने में गिराने होंगे टावर 16 - 17

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सुपरटेक एमराल्ड केस (Supertech Emerald Court Case) में सुपरटेक बिल्डर को बड़ा झटका देते हुए एक कड़ा आदेश जारी कर दिया है। कोर्ट ने नोएडा एक्सप्रेस स्थित एमराल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट के टावर-16 और 17 को अवैध करार देते हुए पूर्व में इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा। इस आदेश के साथ ही कोर्ट ने कहा कि अब बिल्डर को तीन माह के अंदर दोनों अवैध टावर्स को गिराना होगा। इन टावरों में 40-40 फ्लोर है, जिसमें बड़ी संख्या में फ्लैट हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि सुपरटेक को ट्विन टॉवर्स को अपने खर्चे पर तीन महीने के अंदर गिराना होगा । साथ ही इन टावरों में फ्लैट खरीदने वालों को उनकी रकम ब्याज समेत वापस लौटानी होगी ।


विदित हो कि पूर्व में इस मामले को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) ने 11 अप्रैल 2014 को नियमों का उल्लंघन करने के चलते दोनों टावर्स को ध्वस्त करने का निर्देश दिया था । इसके बाद घर खरीदारों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने चार अगस्त को इन याचिकाओं पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था, लेकिन आज अपना फैसला सुनाते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को सही ठहराया और अब तीन महीने के भीतर अपने पैसे से बिल्डर को दोनों टावर ढहाने के आदेश दिए हैं।

 

Todays Beets: