Friday, May 20, 2022

Breaking News

    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||   आंध्र प्रदेश: गुड़ी पड़वा के जश्न के दौरान भक्तों के बीच मंदिर में मारपीट, दुकानों में तोड़फोड़-आगजनी     ||   दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके जाने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचीं राणा अयूब     ||   सोनिया गांधी ने बोला केंद्र पर हमला, लगाया MGNREGA का बजट कम करने का आरोप     ||   केजरीवाल के आवास पर हमला: दिल्ली HC पहुंची AAP, एसआईटी गठन की मांग की     ||   राज्यसभा जा सकते हैं शिवपाल यादव! दो दिन से जारी है बीजेपी मुलाकातों का दौर     ||   यूपी हज समिति के अध्यक्ष बने मोहसिन रजा, राज्यमंत्री का भी दर्जा मिला     ||   दिल्ली: नई शराब नीति के विरोध में BJP, पटेल नगर समेत 14 जगहों पर शराब की दुकानें की सील     ||

सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला , देशद्रोह के तहत न दर्ज की जाए अब कोई FIR , ब्रिटिश युग के कानून की दोबारा जांच हो

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला , देशद्रोह के तहत न दर्ज की जाए अब कोई FIR , ब्रिटिश युग के कानून की दोबारा जांच हो

नई दिल्ली । महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के घर के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने का ऐलान करने पर अमरावती की सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज करते हुए मुंबई पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया और जेल भेज दिया । इस सबके बीच राजद्रोह कानून (Sediton Law) की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाायर हुई , जिसपर सुनवाई करते हुए आज बुधवार को शीर्ष अदालत ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है । कोर्ट ने देशद्रोह कानून पर रोक लगाते हुए कहा कि देशद्रोह कानून के तहत तब तक कोई नई प्राथमिकी (FIR) दर्ज न हो जब तक कि केंद्र इस ब्रिटिश-युग के कानून के प्रावधानों की फिर से जांच नहीं करता। इन प्रावधानों को ही कोर्ट में चुनौती दी गई है। 

केंद्र और राज्य सरकार इससे परहेज करें

सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस एनवी रमना ने अपने फैसले में कहा - केंद्र और राज्य सरकारें राजद्रोह कानून (Sediton Law) के तहत एफआईआर दर्ज करने से परहेज करें । कोर्ट ने कहा कि जब तक सरकारें इस कानून की समीक्षा नहीं कर लेती है, तब तक इस कानून का इस्तेमाल करना ठीक नहीं होगा । कोर्ट ने कहा कि राजद्रोह कानून फिलहाल निष्प्रभावी रहेगा । हालांकि जो लोग पहले से इसके तहत जेल में बंद हैं, वो राहत के लिए कोर्ट का रुख कर सकेंगे । 


सरकार की ओर से दी गई दलील

इस मामले में मोदी सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट में कहा - जब तक केंद्र ब्रिटिश काल के कानून की फिर से जांच नहीं करता तब तक देशद्रोह कानून के प्रावधान पर रोक लगाना सही दृष्टिकोण नहीं हो सकता । वह बोले - हमने राज्य सरकारों को जारी गाइडलाइन में कहा है कि पुलिस अधीक्षक (SP) या उससे ऊपर रैंक के अधिकारी की मंजूरी के बिना राजद्रोह संबंधी धाराओं में एफआईआर दर्ज नहीं की जाएगी । उन्होंने कोर्ट से अपील की कि राजद्रोह कानून (Sediton Law) पर रोक न लगाई जाए । 

 

Todays Beets: