Friday, September 24, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

सुप्रीमकोर्ट ने CBI की कार्यशैली को आड़े हाथ लिया , पूछा- कितने मुकदमों में सजा दिलवाई , पूरा डेटा पेश करो

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीमकोर्ट ने CBI की कार्यशैली को आड़े हाथ लिया , पूछा- कितने मुकदमों में सजा दिलवाई , पूरा डेटा पेश करो

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए केंद्रीय जांच एजेंसी यानी सीबीआई को आड़े हाथों लिया है। कोर्ट ने इस दौरान सीबीआई के मामले दर्ज करने और उसकी जांच और आरोपियों को सजा दिलवाने की कार्यशैली पर सवाल दागते हुए अपनी नाराजगी जताई। कोर्ट ने सीबीआई की जांच के बाद भी आरोपियों को कम मिल रही सजा को लेकर जांच एजेंसी से ही सवाल पूछने का फैसला लिया है। ऐसे में कोर्ट ने सीबीआई की क्षमता का विश्लेषण करने का भी फैसला लेते हुए सीबीआई निदेशक से उन केसों की संख्या बताने को कहा है , जिसमें जांच एजेंसी ने निचली अदालतों और हाईकोर्ट में दोषियों को सजा दिलवाने में सफलता पाई हो ।

बता दें कि एक केस में 542 दिन बाद भी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचने को लेकर कोर्ट ने सीबीआई को जमकर झाड़ लगाई । जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एमएम सुंदरेश की पीठ ने सीबीआई निदेशक से कहा है कि वह ऐसे मामलों की जानकारी कोर्ट को दें, जिसमें जांच करने के बाद जांच एजेंसी ने आरोपियों को निचली अदालतों और हाईकोर्ट में सजा दिलवाई हो ।


इसके साथ ही कोर्ट ने सीबीआई से पूछा कि वह यह बताएं कि उनके कितने केस निचली अदालतों में लंबित हैं , और कितने समय से लंबित हैं । कोर्ट ने कहा कि हम सीबीआई को लेकर एक डाटा चाहते हैं , जिसमें एक निर्धारित समय तक उनके द्वारा की गई जांच , उनकी जांच के बाद निचली अदालतों में चल रहे मामले , हाईकोर्ट में पहुंचे मामले , किस केस को कितना समय हो गया है। इस सबका ब्योरा ह । हम जानना चाहते हैं कि आखिर सीबीआई की सफलता दल क्या है ।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि किसी मामले में जांच करना ही पर्याप्त नहीं है , उस मामले को कोर्ट तक ले जाना और कोर्ट में दोषियों को सजा दिलवाना भी जांच एजेंसी का ही काम है । सिर्फ जांच करना ही पर्याप्त नहीं है ।

Todays Beets: