Thursday, December 1, 2022

Breaking News

   सुकेश चंद्रशेखर विवाद के बीच तिहाड़ जेल से हटाए गए DG संदीप गोयल, संजय बेनीवाल को मिली कमान     ||   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||

सुप्रीम कोर्ट ने कहा , नफरती भाषण देश का माहौल खराब कर रहे

सुप्रीम कोर्ट ने कहा , नफरती भाषण देश का माहौल खराब कर रहे

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर से देश में जारी हेट स्पीच को लेकर बयान दिया है । सुप्रीम कोर्ट की 2 सदस्य वाली पीठ में एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि नफरत भरे भाषणों ने देश का माहौल खराब कर दिया है । इसे रोकने की जरूरत है । यह टिप्पणी चीफ जस्टिस यूयू ललित और जस्टिस एस रविंद्र भट्ट की पीठ ने की। असल में सुप्रीम कोर्ट में दायर एक याचिका में आरोप लगाया गया था की मौजूदा समय में जारी हेट स्पीच ने माहौल तो खराब किया ही है लेकिन इस पर सरकारी अधिकारियों द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की जाती है।

सुप्रीम कोर्ट में याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि याचिकाकर्ता द्वारा कही गई बात बिल्कुल सही है मौजूदा समय में नफरत ही भाषणों को रोकने की जरूरत है । इस दौरान याचिकाकर्ता ने कहा कि पिछले कुछ समय में हेट स्पीच एक व्यवसाय बन गया है । बावजूद इसके सरकारी अधिकारी इस भाषा पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहे । उन्होंने कहा कि वह बोले - 2024 के चुनावों को लेकर इस तरह की स्पीच बढ़ गई है , भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए अभद्र भाषा कही जा रही है । उन्होंने कहा कि एक पार्टी ने तो फिल्म कश्मीर फाइल को फाइनेंस तक किया । 

इस याचिका पर सुनवाई करते हुए पीठ ने कहा कि ऐसे मामले में सामान्य रूप से आपराधिक कानून के तहत कार्रवाई की जानी चाहिए । हमें इन मामलों की जांच करते हुए देखना होगा कि आखिर इन मामलों में कौन दोषी है और कौन नहीं । पीठ ने कहा कि एक कोर्ट को इन मामलों को अपने संज्ञान में लेने से पहले इनकी पृष्ठभूमि को जानना जरूरी है । अब इस मामले में 1 नवंबर को फिर से सुनवाई होगी । 


 

 

Todays Beets: