Thursday, June 30, 2022

Breaking News

   मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया, कुलगाम में बैंक मैनेजर की हत्या में शामिल था: IGP कश्मीर     ||   जालंधर: अरविंद केजरीवाल के दौरे से पहले दीवारों पर लिखे मिले खालिस्तान के सपोर्ट वाले स्लोगन     ||   पुलिस लॉरेंस बिश्नोई को लेकर मोहाली पहुंची, अज्ञात जगह हो रही पूछताछ     ||   राष्ट्रपति चुनाव: ममता बनर्जी की मीटिंग में जाएंगे मल्लिकार्जुन खड़गे और जयराम रमेश     ||   दिल्ली: कांग्रेस कार्यकर्ताओं का उग्र प्रदर्शन, बैरिकेड तोड़े, टायर जलाए     ||   सुवेंदु अधिकारी समेत निलंबित भाजपा विधायकों ने पश्चिम बंगाल विधानसभा में धरना दिया     ||   18 जून को 100 साल की हो जाएंगी नरेंद्र मोदी की मां हीराबा, मिलने जाएंगे पीएम     ||    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||

यशवंत सिन्हा होंगे विपक्ष के राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवार , थोड़ी देर में कर सकते हैं नाम का ऐलान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
यशवंत सिन्हा होंगे विपक्ष के राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवार , थोड़ी देर में कर सकते हैं नाम का ऐलान

नई दिल्ली । देश में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों के लिए आखिरकार विपक्ष ने अपने उम्मीदवार का चयन करने में सफलता पा ही ली है । विपक्ष ने अब पूर्व भाजपा के नेता और वर्तमान में टीएमसी नेता यशवंत सिन्हा को अपना उम्मीदवार बनाने का निर्णय ले लिया है । सूत्रों के मुताबिक, मंगलवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार के दिल्ली स्थित घर पर हुई विपक्षी दलों की बैठक में यशवंत सिन्हा के नाम पर मुहर लग गई है। अब से थोड़ी देर में इस फैसले का ऐलान किया जा सकता है ।   

अपना नाम राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के तौर पर पेश किए जाने को लेकर यशवंत सिन्हा ने अपनी प्रतिक्रिया दी । उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा - टीएमसी ने मुझे जो सम्मान और प्रतिष्ठा दी, उसके लिए मैं ममता जी का आभारी हूं । अब एक समय आ गया है जब एक बड़े राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए मुझे पार्टी से हटकर अधिक विपक्षी एकता के लिए काम करना चाहिए । 

बता दें कि यशवंत सिन्हा ने अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में केंद्रीय वित्तमंत्री और फिर विदेश मंत्री के रूप में कार्य किया था । उन्होंने 2021 में तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने से पहले 2018 में भाजपा छोड़ दी थी । पिछले साल बंगाल विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उन्हें टीएमसी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया था । 


विदित हो कि इस बार राष्ट्रपति चुनावों को लेकर टीएमसी ने विपक्षी दलों को एकजुट करने की कवायद तेज की थी । शरद पवार के घर पर हुई बैठक से पहले तृणमूल कांग्रेस के एक शीर्ष नेता ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर कहा, "राष्ट्रपति चुनाव के लिए संभावित विपक्षी उम्मीदवार के रूप में यशवंत सिन्हा के नाम का प्रस्ताव करने के लिए कुछ दलों से प्रस्ताव आए हैं । हालांकि, सब कुछ मंगलवार की बैठक की कार्यवाही पर निर्भर करेगा और बैठक में अन्य दलों द्वारा सुझाए गए नामों पर निर्भर करेगा । 

इससे पहले 15 जून को तृणमूल कांग्रेस ने दिल्ली में विपक्ष की बैठक बुलाई थी, जिसमें सर्वसम्मति से विपक्ष के उम्मीदवार के रूप में शरद पवार का नाम प्रस्तावित किया गया था. हालांकि, पवार ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था। इसके बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला और पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपाल कृष्ण गांधी के नामों को दो संभावित नामों के रूप में प्रस्तावित किया था ।  हालांकि, अब्दुल्ला और गोपाल कृष्ण, दोनों ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया ।  इसके साथ ही एचडी देवगौड़ा ने भी प्रस्ताव ठुकरा दिया था । 

 

Todays Beets: