Monday, October 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

अमेरिकी NSA ब्रायन बोले - भारत के साथ चीन का सीमा विवाद अब बातचीत से खत्म नहीं होगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अमेरिकी NSA ब्रायन बोले - भारत के साथ चीन का सीमा विवाद अब बातचीत से खत्म नहीं होगा

नई दिल्ली । भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है । चीन न तो समझौतों की शर्तों को मान रहा है , न ही अपने रुख में कोई बदलाव ला रहा है । इस सबके बीच जबकि भारत और चीन के सैन्य स्तर से लेकर राजनीतिक स्तर के कई अफसर-नेताओं की बैठकों का दौर चलता रहता है, अमेरिका ने कहा है कि दोनों देशों के बीच मौजूदा तनाव अब बातचीत के नहीं खत्म होने वाला । अमेरिका (America) के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) रॉबर्ट ओ ब्रायन ने कहा कि LAC पर ताकत के बल पर नियंत्रण करने की चीन की कोशिश उसकी विस्तारवादी आक्रामकता का हिस्सा है । अब यह स्वीकार करने का समय आ गया है कि दोनों देशों के बीच जारी गतिरोध अब केवल बातचीत से खत्म नहीं होगा , क्योंकिन समझौते से चीन अपना आक्रामक रुख नहीं बदलने वाला ।

बता दें कि पूर्वी लद्दाख में सीमा पर पिछले कुछ महीनों से चीन और भारत के बीच गतिरोध बरकरार है । आलम यह रहा कि इस गतिरोध के चलते दोनों देशों के जवानों के बीच हुई हिंसक झड़प में जहां भारत के 20 जवान शहीद हुए , वहीं चीन के करीब 45 जवान मारे गए । इसके बाद से दोनों देशों में तनाव बढ़ा है ।  दोनों पक्षों के बीच इस गतिरोध को सुलझाने के लिए उच्च स्तरीय राजनयिक और सैन्य वार्ताओं का दौर चल रहा है लेकिन अबतक इस समस्या का समाधान नहीं निकला है । 

इस सबके बीच अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान वहा के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए ) रॉबर्ट ओ ब्रायन (Robert O'Brien ) ने चीन पर टिप्पणी करते हुए कहा, ‘सीसीपी (चीन की कम्युनिस्ट पार्टी) का भारत के साथ लगती सीमा पर विस्तारवादी आक्रमकता स्पष्ट है जहां पर चीन ताकत के बल पर वास्तविक नियंत्रण रेखा पर नियंत्रण करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि चीन की विस्तारवादी आक्रामकता ताइवान जलडमरूमध्य में भी स्पष्ट है जहां धमकाने के लिए जनमुक्ति सेना की नौसेना और वायुसेना लगातार सैन्य अभ्यास कर रही है । 

 


गृहमंत्रालय की राज्यों को एडवाजरी , महिला शोषण की शिकायतों पर FIR दर्ज करवा अनिवार्य , लापरवाह अफसर नपेंगे

अमेरिकी एनएसए ने इस दौरान कहा कि  'बीजिंग के खास अंतरराष्ट्रीय विकास कार्यक्रम ‘वन बेल्ट वन रोड (ओबीओआर) में शामिल कंपनियां गैर पारदर्शी और अस्थिर चीनी ऋण का भुगतान चीनी कंपनियों को कर रही हैं जो चीनी मजदूरों को आधारभूत संरचना के विकास कार्यक्रम में रोजगार दे रही हैं । कई परियोजनाएं गैर जरूरी हैं और गलत ढंग से बनायी गई और वे ‘सफेद हाथी’ हैं । अब ये देश चीनी ऋण पर आश्रित हो गए हैं और अपनी संप्रभुता को कमजोर किया है । इन देशों के पास अब कोई दूसरा विकल्प नहीं बचा है । वे संयुक्त राष्ट्र में मतदान या किसी मुद्दे पर पार्टी के रुख का साथ दे जिसे चीन की कम्युनिस्ट पार्टी अहम मानती है। 

RBI की किया क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान , नई घटाई दरें फिर भी मिलेगा सस्ता लोन , जानें गवर्नर ने क्या क्या कहा

Todays Beets: