Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

सुप्रीम कोर्ट ने महिला सैन्य अफसरों को स्थायी कमीशन पर कहा- यह पुरुषों का पुरुषों के लिए बनाया गया समाज है

अंग्वाल न्यूज डेस्क

सुप्रीम कोर्ट ने महिला सैन्य अफसरों को स्थायी कमीशन पर कहा- यह पुरुषों का पुरुषों के लिए बनाया गया समाज है

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को महिला सैन्य अफसरों को स्थायी कमीशन दिए जाने के मामले में सेना को करारा झटका दिया है । देश की शीर्ष अदालत ने शॉर्ट सर्विस कमीशन में परमानेंट कमीशन देने के मामले पर सुनवाई करते हुए कहा - यह समाज पुरुषों का पुरुषों के लिए बनाया गया समाज है । अगर इसमें बदलाव नहीं होता तो देश की महिलाओं को पुरुषों के समान अवसर नहीं मिलेंगे । इस मामले में जस्टिस चंद्रचूड की अध्यक्षता वाली बैंच ने फैसला सुनाते हुए स्थायी कमीशन के लिए योग्य महिला अफसरों को दो महीने के भीतर पदभार देने के निर्देश दिए हैं ।

विदित हो कि सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस चंद्रचूड की अध्यक्षता में बनी बेंच ने गुरुवार को महिला सैन्य अफसरों को स्थायी कमीशन देने संबंधी एक मामले में सुनवाई की । इस दौरान कोर्ट ने कहा - महिला अफसरों को स्थायी कमीशन देने के लिए ACRs का तरीका काफी भेदभाव वाला है । सेना का यह तरीका , महिला सैन्य अफसरों को समान अवसर नहीं देता । इस दौरान बेंच ने आदेश दिया कि 1 महीने के भीतर इन योग्य महिला अफसरों को स्थायी कमीशन देने पर विचार करें और योग्य महिलाओं को दो महीने के भीतर पदभार दिया जाए ।  इस दौरान कोर्ट ने कहा कि जिन महिला सैन्य अफसरों को रिजेक्ट किया गया है , उन्हें एक और मौका दिया जाए । सेना का मेडिकल क्राइटेरिया सही नहीं था । उसमें महिलाओं के साथ भेदभाव हुआ है । 


कोर्ट ने कहा कि हमारे फरवरी 2020 में दिए गए आदेश के बावजूद सभी तरह की परीक्षाएं पास करने वाली महिला सैन्य अफसरों को अब तक पदभार नहीं दिया जाना गलत है । इन महिला अफसरों ने फिटनेस के साथ ही अन्य शर्तों को पूरा किया , लेकिन इन्हें समान अवसर नहीं मिले । बेंच ने कहा कि आज से 10 साल पहले इस मामले को लेकर एक फैसला दिया गया था , लेकिन आज भी शरीर के आकार और फिटनेस के आधार पर स्थायी कमीशन न देना अनुचित है ।

Todays Beets: