Wednesday, October 28, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान का निधन , कई दिनों से दिल्ली के अस्पताल में थे भर्ती 

अंग्वाल न्यूज डेस्क

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान का निधन , कई दिनों से दिल्ली के अस्पताल में थे भर्ती 

नई दिल्ली । केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी के नेता राम विलास पासवान का गुरुवार को 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया । वह पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे और उनका दिल्ली के अस्पताल में इलाज चल रहा था । राम विलास पासवान के पुत्र और लोजपा नेता चिराग पासवान ने इस बात की पुष्टि की है । उन्होंने एक ट्वीट करते हुए लिखा - आई मिस यू पापा , मुझे पता है आप जहां भी होंगे , आप मेरे साथ रहेंगे । उनके निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्रीय केबिनेट ने दुख प्रकट किया है ।  

विदित हो कि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का पिछले कुछ समय से दिल्ली के अस्पताल में इलाज चल रहा था । कुछ दिनों पहले ही उनके दिल का एक ऑपरेशन भी हुआ था । हाल में उनके पुत्र चिराग पासवान ने ट्वीट करके जानकारी दी थी कि आने वाले दिनों में उनके पिता का एक और ऑपरेशन किया जाना था । 


रामविलास पासवान की पहचान देश के उन नेताओं में होता था , जिनके पास  5 दशक से ज्यादा समय का संसदीय अनुभव था । वह 9 बार लोकसभा और दो बार राज्यसभा सांसद रहे । उन्हें भारतीय राजनीति का ऐसा नेता माना जाता है जो बहुत जल्द ही हवा का रुख पहचान लेते थे । वह जिसके साथ चले जाते थे , उसकी केंद्र में सरकार बन जाती थी । 

कभी कांग्रेस की सत्ता के खिलाफ इमरजेंसी के दौरान वह जेल गए तो उसी की अगुवाई वाली यूपीए सरकार में मंत्री भी रहे । तब जो भाजपा उनकी नीतियों का विरोध करती थी उसी एनडीए की सरकार में पासवान मंत्री भी रहे । 

Todays Beets: