Tuesday, March 2, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

चेन्नई - CBSE स्कूल की परीक्षा में दिल्ली में हंगामा करने वाले किसानों को ''उपद्रवी'' कहा , पूछे निपटने के उपाय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चेन्नई - CBSE स्कूल की परीक्षा में दिल्ली में हंगामा करने वाले किसानों को

चेन्नई । दिल्ली में 26 जनवरी को किसानों के हिंसक प्रदर्शन को लेकर चेन्नई के एक प्रतिष्ठित सीबीएसई स्कूल में परीक्षा के दौरान सवाल पूछे गए । असल में स्कूल की दसवीं क्लास की अंग्रेजी भाषा और साहित्‍य के पेपर में 'लेटर टू एडिटर' फॉर्मेट में लिखे सवाल में प्रदर्शनकारियों को 'violent maniacs' (हिंसक उन्‍मादी) कहा गया । इतना ही नहीं इस पेपर में गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा की जानकारी देते हुए छात्रों से ऐसे उपद्रवियों से निपटने पर विचार मांगे गए । 

बता दें कि स्कूल की 11 फरवरी को आयोजित अंग्रेजी भाषा और साहित्‍य के पेपर में 'लेटर टू एडिटर' फॉर्मेट में लिखा था कि आप अपने शहर के एक दैनिक समाचार पत्र के संपादक को एक पत्र लिखे जिसमें हिंसा करने वाले उपद्रवियों के कृत्य की निंदा की जाए । ये वो लोग हैं जिन्हें यह समझाने की जरूरत है कि व्यक्तिगत हित से पहले देशहित आता है । सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचा , पुलिसकर्मियों पर हमला करना और राष्ट्रीय ध्वज को अपमानित करना ऐसे अपराध हैं , जिन्हें किसी भी सूरत में सही नहीं ठहराया जा सकता । 


इस दौरान छात्रों से पूछा गया कि वे ऐसे हिंसक उपद्रवियों से निपटने के उपाय बताएं । उनसे पूछा गया कि ऐसे उपद्रवियों से कैसे निपटा जाए , जो बाहरी ताकतों के प्रभाव में आकर हिंसक हो जाते हैं । 

स्कूल के पेपर में छात्रों से इस तरह के सवाल पूछने का मामला अब विवादों में आ गया है । अब इस मामले में राजनीति भी शुरू हो गई है । इस मामले को लेकर सोशल मीडिया में भी तेजी से प्रक्रियाएं बढ़ती जा रही हैं ।  

Todays Beets: