Friday, June 18, 2021

Breaking News

   राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट     ||   यूपीः बसपा से बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश यादव से करेंगे मुलाकात     ||   वैक्सीन विवाद पर अखिलेश यादव बोले, पहले यूपी की सारी जनता को लग जाए, फिर मैं लगवा लूंगा     ||   कांग्रेस ने चिराग को दिया न्योता, एमएलसी प्रेम चंद बोले- उनके आने से बिहार में विपक्ष मजबूत होगा     ||   बिहार में कल से एक हफ्ते तक लॉकडाउन में ढील, लेकिन नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा     ||   पाकिस्तान: आपस में दो ट्रेन टकराईं, 30 की मौत, ट्रेन में अभी भी फंसे हुए हैं बहुत से यात्री     ||   उत्तराखंड: सुनगर के पास हुआ भारी भूस्खलन, गंगोत्री हाइवे हुआ बंद, खुलने में लगेगा वक्त     ||   विवादों में आई 'Family Man 2', बैन लगाने के लिए तमिल नेताओं ने Amazon को लिखा पत्र     ||   केरलः पीटी उषा की सीएम विजयन से अपील- सभी खिलाड़ियों, उनके कोच और स्टाफ को वैक्सीनेट किया जाए     ||   इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का दावा, कोरोना की दूसरी लहर में 269 डॉक्टरों ने जान गंवाई     ||

चीन का जैविक हथियार निकला कोरोना वायरस! अमेरिका ने सीक्रेट दस्तावेजों के आधार पर किया दावा

अंग्वाल न्यूज डेस्क

चीन का जैविक हथियार निकला कोरोना वायरस! अमेरिका ने सीक्रेट दस्तावेजों के आधार पर किया दावा

नई दिल्ली । कोरोना वायरस को लेकर अब तक की जारी थ्योरी के आधार पर यही बात सामने आई है कि यह चीन की एक साजिश थी । दुनिया के कई देशों की खुफिया एजेंसियों ने भी इस तरह की आशंका जताई है । लेकिन अब अमेरिका ने अपनी खुफिया एजेंसियों के हाथ लगे कुछ दस्तावेजों के आधार पर दावा किया है कि कोरोना वायरस कुछ और नहीं बल्कि चीन का जैविक हथियार है । एक चीनी वैज्ञानिक ने सार्स कोरोना वायरस की चर्चा जेनेटिक हथियार के नए युग के तौर पर की है , कोविड इसका एक उदाहरण बताया गया है । PLA के दस्तावेजों में इस बात का जिक्र है कि एक जैविक हमले से दुश्मन देश की स्वास्थ्य व्यवस्था को ध्वस्त किया जा सकता है । 

विदित हो कि चीन से दुनियाभर में  फैला कोरोना वायरस हाहाकार मचा रहा है । भले ही चीन में कोरोना महामारी के बीच सब कुछ 6 महीने में सही हो गया हो , लेकिन दुनिया के देश 2019 से लेकर अब तक इस प्रचंड महामारी का दंश झेल रही है । हालांकि चीन ने अब तक नहीं माना है कि कोरोना वायरस उनके देश से फैला । 

देश दुनिया की कई रिपोर्ट में इस तरह का इशारा किया गया कि यह चीन की एक सुनियोजित साजिश का नतीजा था , लेकिन अभी तक कोई ठोस सबूत देश दुनिया के हाथ नहीं लग सका है । इस बीच अमेरिकी खुफिया एजेंसी के हाथ चीन की एक रिपोर्ट के कुछ दस्तावेज हाथ लगे हैं , जिसमें इस बात का जिक्र है कि चीन 2015 से ही कोरोना वायरस को एक जैविक हथियार बनाने की जांच कर रहा था । अमेरिका के हाथ लगी यह रिपोर्ट 2015 की ही है । 

इतना ही नहीं चीनी सैन्य वैज्ञानिकों ने भी दुनिया का तीसरा विश्वयुद्ध भी जैविक हथियारों से ही लड़े जाने की बात कही थी , जो मौजूदा परिपेक्ष्य में सही होती नजर आ रही है । विदेश मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक , अमेरिकी खुफिया एजेंसी को इस बात के संकेत मिले है कि कोरोना चीनी सेना की एक कुटिल चाल थी । अमेरिकी अधिकारियों को मिले दस्तावेज 2015 में सैन्य वैज्ञानिकों और चीन के स्वास्थ्य अफसरों द्वारा लिखे गए थे , जिसमें वे खुद कोरोना की जांच कर रहे थे । 


इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2003 में SARS का चीन पर जो हमला हुआ था , वह भी आतंकियों द्वारा एक जैविक हथियार से किया हमला हो सकता है । इन दस्तावेजों में इस बात का जिक्र है कि इस कोरोना वायरस को बहुत छोटा किया जा सकता है और इसे लोगों में बीमारी पैदा करने वाले वायरस के रूप में तैयार किया जा सकता है । एक ऐसे वायरस में जिसे दुनिया ने कभी न देखा हो । इस तरह इसका इस्तेमाल एक हथियार के रूप में किया जा सकता है ।

हालांकि विदेशी मीडिया में इस रिपोर्ट के हवाले से प्रकाशित रिपोर्ट पर अब चीन अपनी नाराजगी जाहिर कर रहा है और उसका कहना है कि यह चीन की छवि को खराब करने की साजिश है । 

 

Todays Beets: