Friday, September 17, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

कोरोना वायरस के चंगुल से निकले लोगों को अब ये नई बीमारी , एवैस्कुलर नेक्रोसिस में हड्डियां गलने लगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कोरोना वायरस के चंगुल से निकले लोगों को अब ये नई बीमारी , एवैस्कुलर नेक्रोसिस में हड्डियां गलने लगी

नई दिल्ली । कोरोना काल में वायरस की चपेट में आने के बाद अब स्वस्थ हो चुके लोगों को कुछ अन्य तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है । जहां कुछ लोगों को शूगर बढ़ने की समस्या से जूझना पड़ रहा है , वहीं कुछ लोग अभी तक शरीर में दर्द की शिकायत कर रहे हैं । इस सबके बीच अब कोरोना वायरस की चपेट में आए लोगों में एक नई समस्या सामने आ रही है । ब्लैक फंगस के बाद अब कुछ कोरोना से ठीक हुए लोगों में एवैस्कुलर नेक्रोसिस नाम की बीमारी के लक्षण पाए गए हैं । यह बीमारी में शरीर के भीतर खून का फ्लो ठीक न होने के चलते हड्डियां गलने लगती हैं । 

डॉक्टरों ने बताया बीमारी का कारण

इस बीमारी को लेकर डॉक्टरों ने कारण को भी जाहिर किया है । TOI की एक रिपोर्ट के मुताबिक , मुंबई के हिंदुजा अस्पताल में यह समस्या सामने आई है । अस्पताल में भर्ती ऐसे तीन मरीजों का पता चला है , जिनके  एवैस्कुलर नेक्रोसिस (बोन डेथ ) और ब्लैक फंगस के पीछे स्टेरॉयड के इस्तेमाल को वजह माना जा रहा है । डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना संक्रमित लोगों कई लोगों को राहत के लिए स्टेरॉयड्स दिए गए हैं । 

40 साल से कम उम्र वालों पर संकट


असल में , इस नई समस्या को लेकर जो आंकड़े सामने आ रहे हैं , उसके अनुसार , अस्पताल में 40 से कम उम्र के तीन मरीज इस बीमारी से जूझ रहे हैं । कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस की चपेट में आने के बाद ठीक हुए लोगों में इस बोन डेथ के लक्षण मिले हैं। जानकारी के अनसार , इस बीमारी के तीन मरीज डॉक्टर हैं, जिनकी जांघ की हड्डी के दर्द की शिकायत मिली थी जिसकी जांच के बाद बोन डेथ बीमारी का पता चला । 

स्टेरॉयड्स लेने के 2 महीने बाद आफत

डॉक्टरों का कहना है कि जिन मरीजों में कोरोना की मार ज्यादा पड़ी है , उन्हें इलाज में स्टेरॉयड्स दिए गए थे। ऐसे लोगों के लिए खतरा बढ़ा है । स्टेरॉयड्स इस्तेमाल के 1-2 महीने बाद इस बीमारी के और मामले सामने आ सकते हैं क्योंकि स्टेरॉयड्स का असर 5 से 6 महीने बाद दिखता है । उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर से निपटने के लिए मरीजों को काफी स्टेरॉयड्स दिए गए हैं ।

 

Todays Beets: