Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

दिल्ली - मुंबई सरकारों के ऐलान के बाद तेल की कीमतों में आ सकती है बड़ी गिरावट , जानें क्या बयान जारी हुआ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली - मुंबई सरकारों के ऐलान के बाद तेल की कीमतों में आ सकती है बड़ी गिरावट , जानें क्या बयान जारी हुआ

नई दिल्ली । पेट्रोल डीजल की कीमतों में लगातार जारी वृद्धि के बीच जहां सरकार के मंत्री चिंता जाहिर कर चुके हैं , वहीं तेल की कीमतों में गिरावट के लिए कुछ होता नजर नहीं आ रहा है । वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण हाल में सुझाव दे चुकी हैं कि पेट्रोलियम उत्पाद को GST के दायरे में लाना चाहिए । इस पूरे घटनाक्रम पर अब बड़ा मोड़ आया है क्योंकि महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने पेट्रोल डीजल की कीमतों को जीएसटी के दायरे में लाने का समर्थन किया है । वहीं दिल्ली की केजरीवाल सरकार भी तेल की कीमतों को GST के दायरे में लाने की मांग कर चुके हैं । वहीं जीएसटी काउंसिल में भी अब इस मुद्दे पर चर्चा होने की संभावना है । ऐसा हुआ तो तेल की कीमते 20 से 25 रुपये तक कम हो जाएंगी । 

विदित हो कि पेट्रोलियम पदार्थों को भी जीएसटी के दायरे में लाने की बात लंबे समय से हो रही है , लेकिन इससे राज्यों को मिलने वाले भारी राजस्व के चलते कई स्टेट इस सबके लिए राजी नहीं थे । हालांकि सरकार ने इस मामले में कई बार राज्य सरकार से इस मुद्दे पर बात करने को कहा था , लेकिन राज्यों की उदासीनता के चलते इस मामले में कोई आम राय नहीं बनी । 

बहरहाल , महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने कहा कि अगर पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाया जाता है तो राज्य सरकारों के साथ साथ केंद्र को भी फायदा पहुंचेगा ।  उन्होंने भरोसा दिया कि अगर केंद्र सरकार ऐसा करती है तो महाराष्ट्र सरकार इस फैसले का सपोर्ट करेगी । हालांकि इससे पहले दिल्ली के गृह मंत्री सत्येंद्र जैन ने हाल में विधानसभा में कहा था कि हमारी सरकार भी पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाने की मांग कर चुकी है ।


विधानसभा में नेता विपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी के पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाने की मांग पर उन्होंने कहा कि आप एक प्रतिनिधि मंडल लेकर केंद्र सरकार से मुलाकात करें । हमारे सभी विधायक आपके साथ चलेंगे । दिल्ली के साथ साथ पूरे देश को इस कदम से फायदा पहुंचेगा । इसके पहले चर्चा के दौरान बिधूड़ी ने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी सरकार के ऊंचे VAT की वजह से दिल्ली में पेट्रोल और डीजल महंगा है ।  

वहीं इस पूरे मामले पर राज्य सभा में एक लिखित जवाब में वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया है कि इस तरह का कोई प्रस्ताव अबतक सरकार के पास नहीं आया है । पेट्रोल डीजल को जीएसटी के दायरे में लागने के लिए GST काउंसिल का प्रस्ताव जरूरी है । अभी तक ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं मिला है । 

 

Todays Beets: